अफगानिस्तान

अफगानिस्तान में तालिबान के फरमान, मर्द रखे लम्बी दाढ़ी….अकेले बाहर न निकलें औरतें

अफगानिस्तान के कब्जे वाले इलाकों में तालिबान ने कट्टर कानून भी लागू कर दिए हैं. जिसके तहत महिलाओं का अकेले घर से बाहर निकलना प्रतिबंधित है. साथ ही पुरुषों के लिए भी दाढ़ी बढ़ाना अनिवार्य कर दिया गया है....

अफगानिस्तान में तालिबान के फरमान, मर्द रखे लम्बी दाढ़ी….अकेले बाहर न निकलें औरतें

काबुल: अफगानिस्तान को लेकर जो आशंकाएं थीं, वो सही साबित होती नजर आ रही हैं. अमेरिकी सैनिकों की वापसी के साथ ही तालिबान ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है. तालिबान ने कई इलाकों पर कब्जे का दावा किया है, जिसमें कंधार के पूर्व गढ़ सहित एक तिहाई जिले शामिल हैं. इतना ही नहीं, अपने कब्जे वाले इलाकों में तालिबान ने कट्टर कानून भी लागू कर दिए हैं. जिसके तहत महिलाओं का अकेले घर से बाहर निकलना प्रतिबंधित है. साथ ही पुरुषों के लिए भी दाढ़ी बढ़ाना अनिवार्य कर दिया गया है.

जियो न्यूज’ ने अधिकारियों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया है कि अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों के साथ भीषण भिडंत के बाद तालिबान ने पंजवाई जिले पर कब्जा कर लिया है. अमेरिका और नाटो बलों द्वारा काबुल के पास अपने मुख्य बगराम एयर बेस को खाली करने के दो दिन बाद ही पंजवाई जिले पर कब्जा कर लिया गया था. बता दें कि ये वही जिला है जहां से अमेरिका और नाटो ने तालिबान और उसके सहयोगियों के खिलाफ दो दशकों तक अभियान चलाया.

यह भी पढ़े, अफगानिस्तान में हिंसा को देखते हुए वहां बसे भारतीयों के लौट इंडियन एम्बेसी ने जारी किया 

बिना लड़ाई, आसानी से किया कब्जा’:

तालिबान का दावा है कि उसने 421 जिलों में से तिहाई जिलों को अपने नियंत्रण में ले लिया है। इसके प्रांतीय परिषद के सदस्य मोहिब उल रहमान ने कहा है कि उत्तर पूर्व के बदख्शान के कई जिलों को सुरक्षा बलों ने बिना संघर्ष के ही छोड़ दिया। पिछले तीन दिनों में दस जिले ऐसे ही तालिबान ने हासिल किए हैं। तालिबान के प्रवक्ता ने बिना लड़ाई के जिलों को हासिल करने की पुष्टि की है।

कब्जा लेते ही नया कानून:

इधर, खबर है कि तालिबान ने इलाकों में कब्जा लेते ही नए कानून भी लागू करना शुरू कर दिए हैं। इसमें कहा गया है कि कोई भी महिला घर के बाहर अकेले नहीं निकल सकती है। इसके अलावा मर्दों के लिए दाढ़ी बढ़ाना जरूरी कर दिया गया है।

भागकर ताजिकिस्तान पहुंचे 300 अफगान सैनिक:

उत्तर पूर्वी अफगानिस्तान में तालिबान निरंतर बढ़त बना रहा हैं और हर रोज कई जिले उसके कब्जे में आ रहे हैं। यहां तालिबान के खदेड़े जाने के बाद सुरक्षा बल के तीन सौ सैनिक अपने देश की सीमा पार कर ताजिकिस्तान में पहुंच गए। ताजिकिस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा की राज्य समिति ने तीन सौ अफगान सैनिकों के आने की पुष्टि की है। समिति ने कहा है बदख्शान प्रांत से लगी सीमा से ये सैनिक आए हैं। मानवीयता के कारण इन्हें यहां प्रवेश की अनुमति दे दी गई। अप्रैल में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन की सेना वापसी की घोषणा के बाद से पूरे अफगानिस्तान में तालिबान निरंतर बढ़त बना रहे हैं। देश के उत्तरी क्षेत्र में उनका तेजी से प्रभाव बढ़ रहा है।

काबुल के उत्तर में बगराम एयर बेस से विदेशी सैनिकों के बाहर निकलने से यह चिंता बढ़ गई है कि तालिबान नए क्षेत्र पर कब्जा करने के लिए अपने अभियान को अभी और तेज करेगा। बगराम एयर बेस बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि पहले यहां विदेशी सेनाएं तैनात थीं और उन्होंने तालिबान के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण हवाई समर्थन की पेशकश की थी।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker