अफगानिस्तान

तालिबान में जल्द ही बनने जा रही सरकार, केबिनेट मंत्रियों के नाम का जल्द ही होगा ऐलान

तालिबान जल्द ही अफगानिस्तान में बनने जा रही अपनी नई सरकार और कैबिनेट मंत्रियों के नाम का ऐलान कर सकता है. एक अधिकारी ने बताया कि तालिबान और....

तालिबान में जल्द ही बनने जा रही सरकार, केबिनेट मंत्रियों के नाम का जल्द ही होगा ऐलान

अफगानिस्तान. तालिबान जल्द ही अफगानिस्तान में बनने जा रही अपनी नई सरकार और कैबिनेट मंत्रियों के नाम का ऐलान कर सकता है. एक अधिकारी ने बताया कि तालिबान और अन्य अफगान नेता संगठन (तालिबान) के शीर्ष आध्यात्मिक नेता के नेतृत्व में एक नई सरकार और कैबिनेट के गठन के लिए ‘आम सहमति’ पर पहुंच गए हैं और कुछ दिन में इसे लेकर घोषणा भी कर सकते हैं.

तालिबान के सांस्कृतिक आयोग के सदस्य बिलाल करीमी ने बताया कि संगठन का सुप्रीम कमांडर हिबतुल्लाह अखुंदजादा (Haibatullah Akhundzada) किसी भी परिषद का शीर्ष नेता होगा.

यह भी पढ़े, हक्कानी ने दी पाकिस्तानी रिश्तों पर सफाई, कश्मीर मामले में कहा यह…

वहीं अखुंदजादा के 3 डिप्टी में से एक और तालिबान का जाना माना चेहरा मुल्ला अब्दुल गनी बरादर (Mullah Abdul Ghani Baradar) सरकार के दैनिक कामकाज का प्रभारी हो सकता है. हाल ही में तालिबान के नेताओं ने पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई और पूर्व मुख्य कार्यकारी अब्दुल्ला अब्दुल्ला के साथ बैठक की थी.

यहां एक समावेशी सरकार बनाए जाने के लिए ये बैठकें हुई हैं. बिलाल करीमी ने बताया, पिछली सरकार के नेताओं और अन्य प्रभावशाली नेताओं के साथ इस्लामिक अमीरात में एक समावेशी अफगान सरकार बनाने पर विचार-विमर्श आधिकारिक रूप से समाप्त हो गया है.

कतर में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय के उप-प्रमुख शेर मोहम्मद अब्बास स्टानिकजई ने बुधवार को कहा कि सरकार में वे लोग शामिल नहीं किए जाएंगे, जो 20 साल से सरकार में हैं. नई सरकार में पवित्र और शिक्षित लोग शामिल होंगे. महिलाओं को भी शामिल किया जाएगा. इससे पहले तालिबान नेता अनस हक्कानी ने भी कहा था कि सरकार बनाने की प्रक्रिया आखिरी दौर में है.

ये आतंकी भी बनेंगे मंत्री:

अफगान न्यूज के मुताबिक, तालिबान ने सखउल्लाह को कार्यवाहक शिक्षा प्रमुख, अब्दुल बाकी को उच्च शिक्षा का कार्यवाहक प्रमुख, सदर इब्राहिम को कार्यवाहक गृहमंत्री, गुल आगा को वित्तमंत्री, मुल्ला शिरीन को काबुल का गवर्नर, हमदुल्ला नोमानी को काबुल का मेयर और नजीबुल्लाह को खुफिया प्रमुख नियुक्त किया है.

इससे पहले तालिबान ने अपने प्रवक्ता:

जबीहुल्लाह मुजाहिद (Zabihullah Mujahid) को संस्कृति और सूचना मंत्री के तौर पर नियुक्त किया था. मुजाहिद वहीं हैं, जिन्होंने एक दिन पहले मीडिया को संबोधित करते हुए बताया था कि तालिबान की सरकार कैसी होगी.

हाल ही में रिहा हुआ है बरादर:

तालिबान का सह-संस्थापक मुल्ला अब्दुल गनी बरादर (Mullah Abdul Ghani Baradar) काबुल पहुंचा था. बरादर को 2010 में पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया था, लेकिन वो ज्यादा वक्त तक हिरासत में नहीं रहा. साल 2018 में अमेरिका के दबाव के बाद उसे पाकिस्तान ने जेल से रिहा कर दिया. फिर उसे कतर स्थानांतरित किया गया.

डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में मिली थी:

रिहाईअमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में ही अफगानिस्तान में अमेरिका के विशेष प्रतिनिधि जलमी खलीलजाद (Zalmay Khalilzad) ने पाकिस्तान से कहा था कि वह बरादर को छोड़ दे, ताकि वो कतर में जारी बातचीत का नेतृत्व कर सके. इसके बाद ही अमेरिका ने अपने सैनिकों की वापसी से जुड़े समझौते पर तालिबान के साथ हस्ताक्षर किए थे. ट्रंप ने 2020 में हुए इस समझौते को शांति की दिशा में बड़ा कदम बताया था.

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer