भारतमुंबई

‘लव जिहाद’ का नाम देकर तोड़ी दो धर्मो की एकता, रिश्ते बनने से पहले ही टूटे

लव जिहाद के नाम पर वायरल वेडिंग कार्ड की वजह से दो धर्मों के बीच की जानी वाली शादी रद्द कर दी गयी। जबकि यह शादी दोनों परिवार वालो की मर्जी से ही जो रही थी। लेकिन लोगो की छोटी मानसिकता के चलते यह कार्य किया गया।

‘लव जिहाद’ का नाम देकर तोड़ी दो धर्मो की एकता, रिश्ते बनने से पहले ही टूटे

मुंबई. वैसे तो भारत देश कहने को एक आजाद देश है। जबकि यहां कोई अपनी मर्जी से कुछ नही कर सकता। अगर करना चाहे तो समाज या अन्य लोगो की छोटी मानसिकता के चलते रोक टोक कर दी जाती है। एक ओर जहां भारत देश विभिन्नताओ मे एकता के नाम से जाना जाता था वहीं आज के समय मे खुद भारत के लोग ही अपनी एकता को खंडित करने में लगे हुए है।
ऐसा ही एक और उदाहरण आज देखने को मिला है।

घर में शादी की शहनाई बजने वाली थी. तैयारी पूरी कर ली गयी थी. केवल दो दिल या दो परिवार ही नहीं, बल्कि दो धर्म भी मिलने वाले थे. लेकिन शादी के कार्ड (Marriage card) ने इस सपने को तोड़ दिया. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक शादी के कार्ड के वायरल होने के बाद एक शादी टूट गयी. सोशल मीडिया पर इसे लव जिहाद (Love Jihad) के नाम से वायरल किया गया और रिश्ते बनने से पहले ही टूट गये।

यह भी पढ़े, हरभजन सिंह की पत्नी गीता बसरा ने दिया बेटे को जन्म, भारतीय क्रिकेटर्स ने दी दूसरी बार पिता बनने और बधाई

हालांकि इतना सब होने के बाद भी उनकी कहानी यहीं खत्‍म नहीं हुई. लड़की के परिवार ने शादी का आयोजन रद होने के बाद भी उसकी पसंद का समर्थन करने की ठानी. परिवार के अनुसार इस मामले में जबरन शादी जैसा कुछ नहीं है. दोनों की शादी पहले ही स्‍थानीय कोर्ट में रजिस्‍टर हो चुकी है।

एक प्रमुख जौहरी और दुल्हन के पिता प्रसाद अदगांवकर ने कहा कि उनकी बेटी रसिका शारीरिक रूप से विकलांग थी और परिवार को उसके लिए एक लड़का खोजने में कुछ कठिनाई का सामना करना पड़ा था. हाल ही में उनकी बेटी ने और उसके एक पूर्व सहपाठी आसिफ खान ने शादी के बंधन में बंधने की इच्छा प्रकट की. चूंकि दोनों परिवार एक-दूसरे को पिछले कुछ सालों से जानते थे, इसलिए वे इस शादी के लिए राजी हो गये.

पिता ने बताया कि मई में दोनों की शादी नासिक कोर्ट में दोनों परिवारों की मौजूदगी में रजिस्‍टर्ड हुई थी. दोनों परिवार 18 जुलाई को रीति रिवाज से शादी करने को राजी भी थे. यह आयोजन नासिक के एक होटल में करीबी रिश्‍तेदारों की मौजूदगी में होना था.

पिता ने कहा कि समारोह नासिक के एक होटल में करीबी रिश्तेदारों की मौजूदगी में होना था. लेकिन फिर, निमंत्रण कार्ड की एक प्रति कई व्हाट्सएप ग्रुप्स में वायरल हो गई, जिससे बाद शादी को रद्द करने के लिए जानने वालों और कई अजनबियों के फोन भी आने लगे।

लाड सुवर्णाकर संस्था, नासिक के अध्यक्ष सुनील महलकर, जिन्हें यह पत्र सौंपा गया था, उन्होंने कहा कि हमें परिवार से एक पत्र मिला है और उन्होंने हमें सूचित किया है कि शादी रद्द कर दी गयी है. लेकिन इसके बाद भी लड़की के परिवार वालों का कहना है कि चाहे कुछ भी हो जाए, युवा जोड़े को अलग होने के लिए मजबूर नहीं किया जायेगा।

 

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker