मुंबईस्पोर्ट्स

Happy Birthday Dhoni: कैप्टन कूल का आज 40वां जन्मदिन, जानें माही से जुड़ी कुछ खास बातें

Happy Birthday Dhoni: महेंद्र सिंह धोनी आज यानी बुधवार को अपना 40वां जन्मदिन मनाएंगे। सात जुलाई 1981 को जन्मे धोनी ने 15 साल के करियर में कई रिकॉर्ड अपने नाम किए। उन्होंने वो सबकुछ हासिल....

Happy Birthday Dhoni: कैप्टन कूल का आज 40वां जन्मदिन, जानें माही से जुड़ी कुछ खास बातें

मुंबई. टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी आज यानी बुधवार को अपना 40वां जन्मदिन मनाएंगे। सात जुलाई 1981 को जन्मे धोनी ने 15 साल के करियर में कई रिकॉर्ड अपने नाम किए। उन्होंने वो सबकुछ हासिल किया, जिसके वो हकदार थे। यूं ही नहीं ‘माही’ की गिनती दुनिया के सबसे बेहतरीन कप्तानों और फिनिशरों में होती है। विपक्षी टीम को कैसे मात देना है शायद ही उनसे बेहतर कोई जानता हो। ‘कैप्टन कूल’ के नाम से मशहूर धोनी ने अपनी कप्तानी में टीम इंडिया को कई यादगार पल दिए हैं। भारतीय क्रिकेट में उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई और टीम को एक आयाम तक पहुंचाया।

कभी खड़गपुर रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की टिकट चेक करने वाला नौजवान महेंद्र सिंह धोनी एक दिन भारतीय क्रिकेट में कामयाबी की नई इबारत लिखेगा, इसका अंदाजा शायद तब किसी को नहीं था। मगर बचपन से कुछ कर गुजरने की हसरत ने माही को कभी कंफर्ट जोन में डाला ही नहीं। शायद यही वजह है कि तमाम मुश्किलों और चुनौतियों पर पार पाते हुए उन्होंने टीम इंडिया के महान कप्तान बनने तक का लंबा सफर तय किया।

शायद बचपन के संघर्ष से ही माही के अंदर जीत का जज्बा और धैर्य मिला। धोनी के परिवार की जड़ें उत्तराखंड में हैं, उनके पिता पान सिंह 1964 में मीकॉन में जूनियर पद पर नौकरी मिलने के बाद रांची आए। जिस वक्त 1981 में तीन बच्चों में सबसे छोटा महेंद्र सिंह पैदा हुआ उस वक्त पान सिंह एक पम्प ऑपरेटर थे और उनका परिवार मीकॉन की कॉलोनी में बने एक बेडरूम वाले घर में रहता था।

Happy Birthday Dhoni

• धोनी ने सौरव गांगुली की कप्तानी में अपने इंटरनेशनल करियर की शुरुआत की, उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ चिट्टगांव में पहली बार टीम इंडिया की नीली जर्सी पहनी। लेकिन माही इस वनडे मैच में 0 रन बनाकर रन आउट हुए।

• पाकिस्तान की टीम भारत दौरे पर थी। यहां सीरीज के दूसरे वनडे मैच में ही तब के कप्तान गांगुली ने उन्हें तीसरे नंबर पर बैटिंग के लिए भेजा। इससे पहले लंबे-लंबे छक्के जड़ने में धोनी का खूब नाम था, लेकिन इंटरनेशनल क्रिकेट में अभी तक वह ज्यादा प्रभाव नहीं छोड़ पाए थे। लेकिन यहां मिले मौके को उन्होंने हाथों-हाथ लिया और 123 बॉल में 148 रन ठोककर भारतीय टीम का स्कोर 300 के पार पहुंचा दिया। इस पारी से धोनी ने टीम इंडिया में अपनी जगह पक्की कर ली। यह उनके वनडे करियर का 5वां मैच था।

• साल 2005 में श्रीलंका के खिलाफ जयपुर में खेले एक मैच में भारत 299 रन के टारगेट का पीछा कर रहा था। एक बार फिर धोनी को नंबर 3 पर मौका मिला और उन्होंने यहां 50 ओवर विकेटकीपिंग करने के बाद मैच के अंत तक बैटिंग की और 183 रन ठोक डाले। धोनी का यह स्कोर आज भी उनका वनडे क्रिकेट में सर्वोच्च स्कोर है।

• पहली बार टी20 वर्ल्ड कप खेला जा रहा था और महेंद्र सिंह धोनी ने कप्तानी कौशल से यहां इतिहास रच दिया। भारत न सिर्फ इस पहले वर्ल्ड टी20 के फाइनल में पहुंचा बल्कि उसने अपने चिर-प्रतिद्वंदी पाकिस्तान को हराकर इस खिताब पर कब्जा भी जमाया।

• यह वर्ल्ड कप भारत समेत बांग्लादेश और श्रीलंका में ही आयोजित हो रहा था। भारत ने यहां फाइनल में श्रीलंका को हराकर दूसरी बार यह खिताब अपने नाम किया। कपिल देव के बाद धोनी दूसरे भारतीय कप्तान हैं, जिन्होंने विश्व चैंपियन का खिताब अपने नाम किया।

• इस खिताबी मुकाबले में भारत 275 रन के लक्ष्य का पीछा कर रहा था। सचिन और सहवाग (31 रन पर) जल्दी पविलियन लौट गए। इसके बाद विराट आउट हुए तो धोनी यहां 5वें नंबर पर बैटिंग पर उतरे। धोनी ने इस मैच में गंभीर के साथ मैच विनिंग साझेदारी निभाई और टीम इंडिया को विनिंग सिक्स जड़कर खिताब दिलाया।

• साल 2013 में भारत अपनी घरेलू सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेल रहा था। यहां चेन्नै टेस्ट में धोनी ने अपने टेस्ट करियर का एकमात्र दोहरा शतक जड़ा। धोनी ने यहां 224 रन बनाए और भारत ने यहां 8 विकेट से जीत दर्ज की।

पुरस्कार:

उन्हें कई मौकों पर मैन ऑफ द सीरीज़ और मैन ऑफ़ द मैच पुरस्कार भी प्राप्त हुए हैं। 2008 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उन्हें अपना पहला टेस्ट मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड मिला। 2005-06 में भारत श्रीलंका की ओडीआई सीरीज श्रीलंका के विरुद्ध पहला मैन ऑफ द सीरीज अवॉर्ड मिला। वह लगातार 2008 और 2009 के लिए आईसीसी प्लेयर ऑफ द ईयर पुरस्कार के प्राप्तकर्ता भी हैं | इन्होंने 2007 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार और 2009 में पद्मश्री पुरस्कार प्राप्त किया है।

निवृत्ति:

धोनी ने मेलबोर्न में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए  ड्रा टेस्ट के बाद 30 दिसंबर 2014 को अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट से अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा की। उन्होंने अपनी तत्काल सेवानिवृत्ति के पीछे का कारण खेल के सभी प्रारूपों में क्रिकेट खेलने को लेकर हो रहे तनाव को बताया था। उन्होंने ओडीआई और टी -20 मैचों पर बेहतर ध्यान केंद्रित करने की अपनी इच्छा व्यक्त की। हालांकि, 04 जनवरी 2017 को, वह भारतीय ओडीआई और टी 20 अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट टीमों के कप्तान के पद को छोड़ दिया, हालांकि बताया गया है कि उन्होंने उस समय इंग्लैंड के खिलाफ आने वाली सीरीज में खेलने हेतु चयन के लिए अपनी उपलब्धता के बारे में बोर्ड को सूचित किया था।

Happy Birthday Dhoni

उनकी कुछ अन्य उपलब्धियां हैं:

• ओडीआई क्रिकेट की उनकी एक पारी में 10 छक्के के साथ शीर्ष से छठे स्थान पर हैं।

• उन्होंने 183 रन बनाकर विकेट कीपर द्वारा बनाए गए उच्चतम स्कोर में एडम गिलक्रिस्ट का रिकॉर्ड तोड़ दिया।

• भारतीय विकेटकीपर द्वारा एक पारी में अधिकतम खिलाडियों को आउट करने का रिकॉर्ड रखते हैं।

• भारत उनकी कप्तानी में 9 विकट खोकर 726 रन के उच्चतम टेस्ट स्कोर पर पहुंच गया।

• वह एकमात्र ऐसे ओडीआई कप्तान हैं जिन्होंने सातवें नंबर पर खेलते हुए शतक बनाया है। ऐसा उन्होंने दिसंबर 2012 में पाकिस्तान के खिलाफ खेलते हुए किया।

• वह 4000 टेस्ट रन तक पहुंचने वाले पहले भारतीय विकेटकीपर हैं।

 

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker