केरल

भाजपा नेता की हत्या के मामले में केरल पुलिस को अभी तक कोई सुराग नहीं मिला

तिरूवनंतपुरम, 26 दिसम्बर ()। केरल में भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के अन्य पिछड़ा वर्ग के सचिव और अधिवक्ता रंजीत श्रीनिवासन की नृशंस हत्या के एक सप्ताह बाद भी पुलिस को इस मामले में कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस न तो उन हत्यारों की पहचान कर पाई है और न ही किसी को गिरफ्तार किया गया है।

रंजीत अलापुजहा बार कौंसिल के मशहूर अधिवक्ता थे और इस जिले में भारतीय जनता पार्टी का जाना माना चेहरा थे। उन्होंने 2016 में अलापुजहा से विधानसभा चुनाव लड़ा था और 19 दिसंबर को उनकी मां , पत्नी तथा बेटी के सामने घर में ही वीभत्स तरीके से हत्या कर दी गई थी। इस हत्या को 18 दिसंबर को सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंड़िया (एसडीपीआई)के राज्य सचिव के एस शान की हत्या के बाद बदले की कार्रवाई माना जा रहा है। पार्टी ने आरोप लगाया था कि शान की हत्या भाजपा और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) ने की थी।

शान की हत्या में शामिल सभी आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है लेकिन रंजीत की हत्या के मामले में पुलिस को अभी तक कोई सुराग नहीं मिल सका है और इस बात को लेकर उसकी चौतरफा आलोचना की जा रही है।

केरल के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के सुरेंद्रन ने को बताया केरल पुलिस सुस्त और अक्षम हो चुकी है और रंजीत के हत्यारे अभी भी उसकी गिरफ्त से बाहर हैं जो यह दर्शाता है कि एसडीपीआई अपराधियों को शीर्ष स्तर से संरक्षण मिल रहा है। पुलिस की इस अक्षमता को और कोई किस प्रकार समझ सकता है। उनकी हत्या को एक हफ्ता बीत चुका है लेकिन अभी तक इस मामले में कोई प्रगति नहीं हुई है और केरल पुलिस को तत्काल इस मामले में हत्यारों को गिरफ्तार कर उनके परिवार को न्याय दिलाने में मदद करनी चाहिए।

कांग्रेस ने भी उनकी हत्या के मामले में पुलिस के ढीले रवैये की कड़ी आलोचना की है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के सुधाकरण ने कहा है अधिवक्ता रंजीत की हत्या दिन दिहाड़े की गई है और यह समझ नहीं आ रहा है कि आखिर पुलिस इस मामले में इतनी सुस्ती क्यों दिखा रही है।

इस बीच पुलिस ने दावा किया है कि रंजीत के हत्यारों को गिरफ्तार करने के लिए कई टीमों को गठित किया गया है और जल्दी ही वे पुलिस की गिरफ्त में होंगे।

इस मामले की जांच के प्रभारी सहायक पुलिस महानिदेशक विजय साखारे ने बताया कि अपराधियों की धरपकड़ के प्रयास किए जा रहे हैं और केरल पुलिस की कई टीमें कर्नाटक तथा तमिलनाडु में छापेमारी कर रही हैं।

केरल पुलिस ने यह भी कहा है कि रंजीत की हत्या में शामिल लोगों में एक एसडीपीआई कार्यकर्ता उसकी हिरासत में है,लेकिन उसके नाम और पहचान का खुलासा नहीं किया गया है। बताया जा रहा है कि वह अलापुजहा का रहने वाला है और रंजीत के घर के निकट ही रह रहा था।

जेके