अजब गजब

Love Science: प्यार होने पर आखिर लोग क्यों बन जाते है आशिक, जानें क्या कहता है साइंस

प्यार (Love) न केवल रातों की नींद उड़ा देता है बल्कि आपकी भूख-प्यास तक गायब हो जाती है। आप उस शख्स के लिए इस कदर दीवानापन महसूस करने लगते हैं कि हर वक्त उसके बारे में सोचना आपको अच्छा लगने लगता है।

Love Science: जब हमें किसी से प्यार (Love) होता है, तब यह शुरू में महसूस होने में वक्त लेता है। लेकिन जितना धीरे-धीरे आप इसे महसूस करते है उतना ही यह आपको गहराई में लिए जाता है। औऱ आपके दिल और दिमाग में छाने लगता है, एक तरह से आप एक अलग ही दुनिया में खो जाते हैं। आपको आपके चारो ओर या यूँ कहे कि हर तरफ सब कुछ बहुत ही खूबसूरत दिखाई देने लगता है, बैठे-बैठे आपको अपने साथी के ख्यालों में खोना जैसे दुनिया की सबसे प्यारी चीज लगने लगती है। ऐसा करने से आपको काफी सुकून भी मिलता है और इस तरह के ख्याल आपको अपने पार्टनर का करीब होना महसूस करवाते है।

यहां तक कि कई बार आप बहुत सी ऐसी कल्पनाएं भी कर डालते हैं जिसका होना मुमकिन भी नहीं होता।

यह भी पढ़े, 7 मुलांक वाले होते है सेंसेटिव, जानें आखिर क्यों प्रेम का इजहार करने में हिचकिचाते है यह लोग

ना केवल प्यार (Love) रातों की नींद उड़ा देता है बल्कि आपकी भूख-प्यास तक गायब हो जाती है।
आप उस शख्स के लिए इस कदर दीवानापन महसूस करने लगते हैं कि हर वक्त उसके बारे में सोचना आपको अच्छा लगने लगता है। और यह आपके सबसे पसंदीदा कामो में से एक बन जाता है।

ना केवल ​दिल बल्कि दिमाग पर भी होता है असर:

Love Science: प्यार होने पर आखिर लोग क्यों बन जाते है आशिक, जानें क्या कहता है साइंस
Love Science: प्यार होने पर आखिर लोग क्यों बन जाते है आशिक, जानें क्या कहता है साइंस

वैसे तो लोगों का मानना है कि प्यार का दिमाग से कोई लेना-देना नहीं होता, लेकिन साइंस कहती है कि प्यार दिल के साथ-साथ दिमाग पर भी असर करता है, और उतना ही उस पर भी हावी हो जाता है जितना दिल पर।

इसी कारण अक्सर लोगों का दिमाग मोहब्बत में कुछ वक्त के लिए ही सही काम करना तक बंद कर देता है। इस वजह से वह निर्णय तक नही ले पाता।

प्यार एक एक ऐसी भावना है जो हमारे दिमाग में रासायनिक प्रतिक्रिया पैदा करती है। प्यार को किस तरह आगे बढ़ाये और उसे औऱ गहरा कैसे करे यह उस काम में पूरा सहयोग होता है। हालांकि हर कोई प्रेम को बेहद ही अलग तरह से परिभाषित करता है।

स्टडी कहती है कि जब आप किसी के प्यार में पड़ते हैं तो उसके बाद आपके दिमाग का केमिकल इक्वेशन बदल जाता है, जिससे आपका माइंड हैप्पी सिन्ड्रोम से भरने लगता है।

​साइंस क्या कहती है?:

Love Science: प्यार होने पर आखिर लोग क्यों बन जाते है आशिक, जानें क्या कहता है साइंस
Love Science: प्यार होने पर आखिर लोग क्यों बन जाते है आशिक, जानें क्या कहता है साइंस

प्यार का असर केवल आपके दिमाग पर ही हो ऐसा जरूरी नही है, बल्कि दिल उससे दोगुना ज्यादा इसके घेरे में रहता है।
प्यार को लेकर हजार बातें कही जाती हैं, लेकिन इसके अलग-अलग सिम्पटम्स की वजह से कोई एक निश्चित कारण का पता लगा पाना आज भी शोध का विषय है।

स्टडी के मुताबिक, जब आपको किसी से प्यार होता है तो आपके दिमाग के कुछ हिस्से सक्रिय हो जाते है लेकिन उसी के साथ एक बड़ा हिस्सा निष्क्रिय भी हो जाता है। जिसके कारण इंसान के निर्णय लेने की क्षमता पर सीधा असर पड़ता है।

क्या प्यार (Love) है एक दीवानापन:

Love Science: प्यार होने पर आखिर लोग क्यों बन जाते है आशिक, जानें क्या कहता है साइंस
Love Science: प्यार होने पर आखिर लोग क्यों बन जाते है आशिक, जानें क्या कहता है साइंस

यह एक एहसास है जिसके कारण व्यक्ति बदलने लगता है उसके अंदर एक अलग सा परिवर्तन आने लगता है, जिसके कारण उन्हें अपने पार्टनर के साथ एक अलग सा सुकून मिलने लगता है। यही कारण है कि जब साथी साथ ना हो तो उनकी गैरमौजूदगी में आप तड़पने लगते हैं जिसे लोग आशिक, दीवाना या पागल जैसे तमगे देने लगते हैं।

इस एहसास में ही तो एक दीवानापन होता है, जिस वजह से आपको ना तो अपना ख्याल रहता है और ना ही अपनी परवाह।
प्यार में रहकर आप हर वक्त अपने पार्टनर के बारे में ही सोचते है उन्हीं के ख्यालों में खोए रहना पसन्द करते हैं और उनके साथ अपना ज्यादा से ज्यादा वक्त बिताना शुरू कर देते हैं। हालांकि एक बार ऐसा एहसास होने के बाद वह प्यार आपके दिल में समा जाता है और हमेशा के लिए बना रहता है।

प्यार में कभी कभी व्यक्ति इतना को जाता है की अपना सब कुछ छोड़ने तक के लिए भी तैयार हो जाते है। इसी को लोग प्यार में अंधा होना भी कहते है।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker