कला और संस्कृतिधर्म/ज्योतिष

Ub Chhath 2021: ऊब छठ व्रत शनिवार, 28 अगस्त को, जानिए व्रत की कथा, नियम, पूजा और उद्यापन विधि

निहारिका टाइम्स.  भगवान कृष्ण के बड़े भ्राता बलराम का जन्म दिवस (चंदनषष्ठी पर्व) शनिवार 28 अगस्त को ऊब छठ (Ub Chhath) के रूप में मनाया जाएगा। छठ व्रत 28 अगस्त 2021, दिन शनिवार षष्ठी तिथि प्रारंभ 27 अगस्त 2021 को शाम 06:50 बजे षष्ठी तिथि समाप्त 28 अगस्त 2021 को रात्रि 08:55 बजे समाप्त हाेगा।

सुहागिनें घर-परिवार की सुख समृद्धि और सौभाग्य की कामना के लिए सूर्यास्त बाद चंदनयुक्त जल सेवन कर व्रत का संकल्प लेंगी। संकल्प के बाद निरंतर चन्द्रोदय तक खड़े रहकर उपासना एवं पौराणिक कथाओं का श्रवण करेंगी। जिसके बाद चांद उदय होते ही अर्घ्य देकर व्रती लोग व्रत का समापन करेंगी।

भगवान कृष्ण के बड़े भाई बलराम का जन्म दिन भाद्र पद माह की कृष्ण पक्ष की छठ (षष्टी तिथि) को ऊब छठ का पर्व मनाया जाता है। ऊब छठ का व्रत और पूजा विवाहित स्त्रियां पति की लंबी आयु के लिए तथा कुंआरी लड़कियां अच्छे पति कामना में करती है।

ऊब छठ का व्रत रखने वाली सुहागिनें और कुंवारी कन्याएं सूर्यास्त से चंद्रोदय तक खड़े रहकर मंदिरों में ठाकुरजी के दर्शन कर पूजन पाठ संपन्न करती हैं। ऊब छठ का व्रत रखने वाली महिलाए और कुंआरी लड़कियां सूर्यास्त के बाद से चंद्रोदय तक खड़े रहकर पौराणिक कथाओं का श्रवण करेंगी।

ऊब छठ क्यो कहते है ?

ऊब छठ के दिन मंदिर में भगवान की पूजा की जाती है। चाँद निकलने पर चाँद को अर्ध्य दिया जाता है। उसके बाद ही व्रत खोला जाता है। सूर्यास्त के बाद से लेकर चाँद के उदय होने तक व्रती खड़े रहते है। इसीलिए इसको ऊब छठ कहते है। ऊब छठ को चन्दन षष्टी (Chandan chath), चन्ना छठ (Channa Chath) और चाँद छठ (Chand Chath) के नाम से भी महिलाएं जानती हैं।

ऊब छठ की पूजन सामग्री – Ub chhath Poojan Samagri

कुमकुम, चावल, चन्दन, सुपारी, पान, कपूर, फल, सिक्का, सफ़ेद फूल, अगरबत्ती, दीपक।

ऊब छठ की पूजा विधि – Ub chhath Pooja Vidhi

  • सुहागिन स्त्रियां ऊब छठ पर पूरा दिन निर्जला व्रत रखती है।
  • सूर्यास्त के बाद दुबारा स्नान कर स्वच्छ और नए कपड़े पहनती है।
  • कुछ महिलाएं लक्ष्मी जी और और गणेश जी की पूजा करते है और कुछ अपने इष्ट की।
  • चन्दन घिसकर भगवान को चन्दन से तिलक करके अक्षत अर्पित किए जाने की धार्मिक मान्यता हैं। सिक्का, फूल, फल, सुपारी चढ़ाते है। दीपक, अगरबत्ती जलाते है।
  • जिसके बाद हाथों में चन्दन लिया जाता है। कुछ महिलाएं चन्दन मुँह में भी रखती है। जिसके बाद ऊब छट व्रत और गणेशजी की कहानी का श्रवण किया जाता है।
  • मंदिरों में उपासक महिलाएं भजन करती है।
  • इसके बाद व्रती जब तक चंद्रमा जी न दिख जाए, जल भी ग्रहण नही करती और ना ही नीचे बैठती है। ऊब छठ के व्रत का नियम है कि जब तक चांद नहीं दिखेगा तब तक महिलाओं को खड़े रहना पड़ता है।
  • व्रती मंदिरों में ठाकुरजी के दर्शन कर पूजा अर्चना करके परिवार के सुख-समृद्धि की कामना करती हैं और खड़े रहकर पौराणिक कथाओं का श्रवण करती हैं।
  • चंद्रोदय पर चाँद को अर्ध्य देकर पूजन किया जाता हैं। चाँद को जल के छींटे देकर कुमकुम, चन्दन, मोली, अक्षत और भोग अर्पित करते हैं।
  • इसके बाद कलश से जल चढ़ायें। एक ही जगह खड़े होकर परिक्रमा करें। अर्ध्य देने के बाद व्रत का पालना करती है। लोग व्रत खोलते समय अपने मान्यता के अनुसार नमक वाला या बिना नमक का खाना खाते है।

ऊब छठ के व्रत की उद्यापन विधि – Ub Chath Ka Udyapan

इस व्रत के उद्यापन के लिए पाव वजन यानी की भार के आठ लडडू बनाए जाते हैं। यह लडडू एक साफ बर्तन में रखकर व्रत करने वाली आठ स्त्रियों को दान किया जाता है। जिसके साथ में एक नारियल भी शुभफल के लिए दिया जाता है। नारियल पर कुमकुम के छींटे दिए जाते है। एक प्लेट में लडडू और नारियल विनायक भी को दिया जाता है।

ये प्लेट घर पर जाकर दे सकते है या उनको भोजन के लिए निमंत्रण देकर भोजन कराके भी दे सकते है। प्लेट देते समय पहले महिला को तिलक करें। फिर प्लेट में लडडू और नारियल दें।

ऊब छठ की कहानी – Ub chhath ki kahani

किसी गांव में एक साहूकार और इसकी पत्नी रहते थे। साहूकार की पत्नी रजस्वला होती थी तब सभी प्रकार के काम कर लेती थी। रसोई में जाना, पानी भरना, खाना बनाना, सब जगह हाथ लगा देती थी।

उनके एक पुत्र था। पुत्र की शादी के बाद साहूकार और उसकी पत्नी की मृत्यु हो गई।

अगले जन्म में साहूकार एक बैल के रूप में पैदा हुआ और उसकी पत्नी अगले जन्म में कुतिया बनी। ये दोनों अपने पुत्र के यहाँ ही थे। बैल से खेतों में हल जुताया जाता था और कुतिया घर की रखवाली करती थी।

श्राद्ध के दिन पुत्र ने बहुत से पकवान बनवाये। खीर भी बन रही थी। अचानक कही से एक चील उड़ती हुई आई।

चील के मुँह में एक मरा हुआ साँप था। वो सांप चील के मुँह से छूटकर खीर में गिर गया।

कुतिया ने यह देख लिया। उसने सोचा इस खीर को खाने से कई लोग मर सकते है। उसने खीर में मुँह अड़ा दिया ताकि उस खीर को लोग ना खाये।

पुत्र की पत्नी ने कुतिया को खीर में मुँह अड़ाते हुए देखा तो गुस्से में एक मोटे डंडे से उसकी पीठ पर मारा। चोट तेज थी कुतिया की पीठ की हड्डी टूट गई। उसे बहुत दर्द हो रहा था। रात को वह बैल से बात कर रही थी।

उसने कहा तुम्हारे लिए श्राद्ध हुआ तुमने पेट भर भोजन किया होगा। मुझे तो खाना भी नहीं मिला ,मार पड़ी सो अलग। बैल ने कहा – मुझे भी भोजन नहीं मिला , दिन भर खेत पर ही काम करता रहा।

ये सब बातें बहु ने सुन ली। उसने अपने पति को बताया। उसने एक पंडित को बुलाकर इस घटना का जिक्र किया।

पंडित में अपनी ज्योतिष विद्या से पता करके बताया की कुतिया उसकी माँ और बैल उसके पिता है। उनको ऐसी योनि मिलने का कारण माँ द्वारा रजस्वला होने पर भी सब जगह हाथ लगाना , खाना बनाना , पानी भरना था।

उसे बड़ा दुःख हुआ और माता पिता के उद्धार का उपाय पूछा। पंडित ने बताया यदि उसकी कुँवारी कन्या भाद्रपद कृष्ण पक्ष की षष्टी यानि ऊब छठ का व्रत करे। शाम को नहा कर पूजा करे उसके बाद बैठे नहीं। चाँद निकलने पर अर्ध्य दे। अर्ध्य देने पर जो पानी गिरे वह बैल और कुतिया को छूए तो उनका मोक्ष हो जायेगा।

जैसा पंडित ने बताया था कन्या ने ऊब छठ का व्रत किया , पूजा की। चाँद निकलने पर चाँद को अर्ध्य दिया। अर्ध्य का पानी जमीन पर गिरकर बहते हुए बैल और कुतिया पर गिरे ऐसी व्यवस्था की। पानी उन पर गिरने से दोनों को मोक्ष प्राप्त हुआ और उन्हें इस योनि से छुटकारा मिल गया।

हे ऊब छठ माता जैसे इनका किया वैसे सभी का उद्धार करना।

कहानी कहने वाले और सुनने वाले का भला करना।

बोलो छठ माता की…. जय !!!

(इस आलेख में दी गई Ub Chhath 2021 की जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित है।)

Sabal Singh Bhati

The Writer and Journalist.