कारोबार

भारत और ब्रिटेन ने महत्वपूर्ण मुक्त व्यापार वार्ता शुरू की

नई दिल्ली, 13 जनवरी ()। केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री, पीयूष गोयल ने गुरुवार को ब्रिटिश अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मंत्री, ऐनी मैरी ट्रेवेलियन

के साथ दोनों देशों के बीच एक मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) के लिए द्विपक्षीय बातचीत की श्रंखला शुरू की।

दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों नरेंद्र मोदी और बोरिस जॉनसन द्वारा मई 2021 में निर्धारित 2030 तक भारत और ब्रिटेन के बीच द्विपक्षीय व्यापार को दोगुना करने का लक्ष्य रखा था और यह बातचीत इसी दिशा में बेहतर संभावनाएं प्रदान कर सकती है।

इस अवसर पर श्री गोयल ने कहा कि भारत और ब्रिटेन साझा इतिहास और समृद्ध संस्कृति में साझेदारी के साथ जीवंत लोकतंत्र हैं। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में विविध भारतीय प्रवासी एक संपर्क सेतु का में कार्य करते हैं तथा दोनों देशों के बीच संबंधों में और गतिशीलता प्रदान करते हैं।

श्री गोयल ने कहा कि ब्रिटेन के साथ मुक्त व्यापार समझौता निश्चितता, संभाव्यता और पारदर्शिता प्रदान करेगा तथा एक अधिक उदार, सुविधाजनक एवं प्रतिस्पर्धी सेवा व्यवस्था बनाएगा।

उन्होंने कहा ब्रिटेन के साथ वार्ता से चमड़ा, कपड़ा, आभूषण और प्रसंस्कृत कृषि उत्पादों में हमारे निर्यात में वृद्धि की उम्मीद है। भारत में 56 समुद्री इकाइयों की मान्यता के माध्यम से समुद्री उत्पादों के निर्यात में एक जोरदार उछाल की भी उम्मीद है।

श्री गोयल ने कहा फार्मा पर आपसी मान्यता समझौते (एमआरए) अतिरिक्त बाजार तक पहुंच प्रदान कर सकते हैं। आयुष और ऑडियो-विजुअल सेवाओं सहित आईटी / आईटीईएस, नसिर्ंग, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा जैसे सेवा क्षेत्रों में निर्यात बढ़ाने की भी काफी संभावनाएं हैं।

मंत्री ने आश्वासन दिया कि एफटीए के शुरू होने के बाद, दोनों देश व्यापार सौदे और अन्य संबद्व मामलों पर विचार-विमर्श करने के लिए लगातार एवं नियमित रूप से एक-दूसरे के साथ जुड़ेंगे।

श्री गोयल ने वस्तुओं और सेवाओं में व्यापार की पर्याप्त मात्रा के मदद्ेनजर ब्रिटेन को भारत का एक प्रमुख व्यापार भागीदार मानते हुए कहा कि पर्यटन, प्रौद्योगिकी, स्टार्टअप, शिक्षा, जलवायु परिवर्तन आदि जैसे क्षेत्रों में दोनों के बीच सहयोग की संभावनाएं हैं। दोनों देश व्यापक श्रेणी के क्षेत्रों में संतुलित रियायतों और बाजार पहुंच पैकेज के साथ पारस्परिक रूप से लाभप्रद व्यापार समझौते को लेकर उत्साहित हैं।

श्री गोयल ने बाजार पहुंच के मुद्दों पर ध्यान देते हुए व्यापार प्रतिबंधों को हटाकर क्षेत्रीय सहयोग बढ़ाने का आह्वान किया और कहा कि इससे दोनों देशों में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार पैदा करने में मदद मिलेगी।

इससे पहले सुश्री ट्रेवेलियन ने लंदन रवाना होने से पहले कहा हम भारत द्वारा पेश इस विशाल नए बाजार में

खाद्य और पेय से लेकर सेवाओं और मोटर वाहन तक कई उद्योगों में अपने ब्रिटिश उत्पादकों और निमार्ताओं को उतारना चाहते हैं।

उन्होंने कहा ब्रिटेन के व्यापार के हमारे महत्वाकांक्षी पांच सितारा वर्ष की शुरूआत का भारत प्रतीक है और यह दिखाएगा कि हम जिन सौदों पर बातचीत करते हैं, वे सभी देशों में अर्थव्यवस्थाओं को बढ़ावा देंगे।

जेके

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें निहारिका टाइम्स हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Niharika Times Android Hindi News APP