छतीसगढ़

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने धान खरीद के लिए 5.25 लाख नए जूट के बोरों की मांग की

नई दिल्ली, 23 नवंबर ()। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर 12 नवंबर, 2021 को खाद्य विभाग, भारत सरकार द्वारा जारी योजना के अनुसार नए जूट के बोरों की समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने का अनुरोध किया है।

बघेल ने अपने पत्र में कहा कि योजना के तहत छत्तीसगढ़ को जूट आयुक्त कोलकाता के माध्यम से 2.14 लाख नए जूट बोरे खरीदने की अनुमति मिली है। इसके विपरीत राज्य को अभी तक जूट की नई 86,856 बोरियों ही प्राप्त हुई हैं, जो योजना के अनुसार आवश्यक मात्रा से काफी कम है।

राज्य को धान खरीद के लिए 5.25 लाख बोरों की जरूरत है। जूट आयुक्त की योजना के अनुसार यदि शत-प्रतिशत बारदानों की आपूर्ति समय पर नहीं की गई, तो राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगड़ सकती है।

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में कहा कि छत्तीसगढ़ में खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में भारत सरकार द्वारा घोषित समर्थन मूल्य पर किसानों से धान क्रय करने का कार्य एक दिसंबर 2021 से शुरू होने की संभावना है, जिसके लिए सभी आवश्यक तैयारियां की जा रही हैं।

खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में राज्य के किसानों से समर्थन मूल्य पर 105 लाख टन धान की खरीद होने का अनुमान है, जिसके लिए 5.25 लाख जूट के बोरों की आवश्यकता होगी।

इसमें से 2.14 लाख गांठ नई जूट बोरियों को जूट आयुक्त कोलकाता के माध्यम से खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा 12 नवंबर, 2021 को जारी पत्र के माध्यम से खरीदने की अनुमति दी गई है। अगस्त के लिए 0.19 लाख गांठ, सितंबर के लिए 0.32 लाख गांठ, अक्टूबर के लिए 0.72 लाख गांठ, नवंबर के लिए 0.15 लाख गांठ और दिसंबर के लिए 0.76 लाख बोरियों की आपूर्ति के लिए शेड्यूल जारी किया गया।

पटसन आयुक्त को प्राप्त होने वाले उपरोक्त सभी नए जूट बोरियों की शत-प्रतिशत आपूर्ति के लिए राज्य स्तर से लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद पटसन आयुक्त द्वारा आपूर्ति की जा रही बोरियों की गति में संतोषजनक प्रगति नहीं दिखाई दे रही है।

बघेल ने पत्र में उल्लेख किया है कि खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में राज्य में 16 लाख टन सेंट्रल पूल की आवश्यकता के अलावा, खाद्य विभाग, भारत सरकार द्वारा केंद्रीय पूल के तहत 61.65 लाख टन चावल लेने की अनुमति दी गई है, बाकी 45.65 लाख टन चावल केंद्रीय पूल के तहत भारतीय खाद्य निगम में जमा किया जाना है, जिसे नए जूट बैग की योजना के अनुसार निरंतर आपूर्ति की भी आवश्यकता है।

Niharika Times We would like to show you notifications for the latest news and updates.
Dismiss
Allow Notifications