अपराध

त्रिपुरा में हिरासत में लिए गए 24 रोहिंग्या; बाद में छोड़ा गया

अगरतला, 3 मई ()। त्रिपुरा के उनाकोटी जिले में जम्मू से आए 10 बच्चों और 8 महिलाओं सहित कम से कम 24 रोहिंग्याओं को हिरासत में लिया गया, लेकिन बाद में उन्हें छोड़ दिया गया, क्योंकि उनके पास यूएनएचसीआर कार्ड थे। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

उनाकोटी जिले के पुलिस अधीक्षक किशोर देबबर्मा ने बताया कि सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने तीन कारों में यात्रा कर रहे रोहिंग्याओं को सोमवार शाम जीतुरदिघिपार चेक गेट पर हिरासत में लिया।

बाद में, बीएसएफ ने 24 रोहिंग्याओं को पुलिस को सौंप दिया, जिन्होंने मंगलवार को उनके यूएनएचसीआर (शरणार्थियों पर संयुक्त राष्ट्र उच्चायोग) काडरें के सत्यापन के बाद उन्हें रिहा कर दिया।

देबबर्मा ने को फोन पर बताया, रोहिंग्या जम्मू में अपने शरणार्थी शिविर से कोलकाता और गुवाहाटी के रास्ते प्रशिक्षण लेकर कुमारघाट रेलवे स्टेशन आए थे। हम उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकते, क्योंकि उनके पास वैध यूएनएचसीआर कार्ड हैं।

विदेशी नागरिकों की कोई विशिष्ट योजना नहीं है कि वे अंतत: कहां जाएंगे। खुफिया अधिकारियों को संदेह है कि उनके बांग्लादेश जाने की संभावना है और इसलिए वे कैलाशहर की सीमा पर आए।

27 अप्रैल को, यूएनएचसीआर कार्ड रखने वाले एक सहित 6 रोहिंग्या प्रवासियों को उत्तरी त्रिपुरा जिले के धर्मनगर रेलवे स्टेशन पर रखा गया था।

बता दें कि रोहिंग्या मुसलमान अक्सर नौकरी की तलाश में और अन्य उद्देश्यों के लिए बांग्लादेश से उत्तरपूर्वी राज्यों में अवैध रूप से प्रवेश करते हैं।

पिछले दो वर्षों के दौरान, 200 से अधिक रोहिंग्या, (जो म्यांमार के नागरिक हैं) को विभिन्न पूर्वोत्तर राज्यों में सीमा सुरक्षा बल और अन्य सुरक्षा एजेंसियों द्वारा हिरासत में लिया गया है।

2016 से 8,60,000 से अधिक रोहिंग्या हिंसा से बचने के लिए म्यांमार से भाग गए और दक्षिण-पूर्व बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में शरण लिए हुए हैं।

एचके/एएनएम