दिल्लीभारत

नए मंत्रियों की लिस्‍ट हुई फाइनल, कैबिनेट में विस्तार से पहले दिल्ली बुलाए गए ये नेता

नए मंत्रियों की लिस्‍ट लगभग फाइनल हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुरुवार तक सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए गए हैं। कई नेता जिनके मंत्री बनने की चर्चा है, दिल्‍ली पहुंच रहे हैं। कुछ नेताओं को फोन भी पहुंचने लगे हैं।

नए मंत्रियों की लिस्‍ट हुई फाइनल, कैबिनेट में विस्तार से पहले दिल्ली बुलाए गए ये नेता

नई दिल्ली. केंद्रीय कैबिनेट में बदलाव तय नजर आ रहा है। नए मंत्रियों की लिस्‍ट लगभग फाइनल हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुरुवार तक सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए गए हैं। कई नेता जिनके मंत्री बनने की चर्चा है, दिल्‍ली पहुंच रहे हैं। कुछ नेताओं को फोन भी पहुंचने लगे हैं।

महाराष्‍ट्र के पूर्व सीएम नारायण राणे को दिल्ली बुलाया गया है। असम के पूर्व मुख्‍यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल भी गुवाहाटी से राजधानी आ रहे हैं। बीजेपी चीफ जेपी नड्डा के आज शाम हिमाचल से लौटने का इंतजार है। ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया भी इंदौर से दिल्‍ली के लिए रवाना हो गए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कैबिनेट में मंत्रियों की संख्या 53 है, जिसे बढ़ाकर 81 किया जा सकता है. कयास लगाए जा रहे हैं कि इस बार का यह विस्तार आगामी विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखकर भी किया जा सकता है. उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र के कई बीजेपी नेताओं को मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने की संभावना है।

यह भी पढ़े, पीएम मोदी के आवास पर आज होगी हाईलेवल बैठक, हो सकता है मंत्रिमंडल का विस्तार

ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया, सर्वानंद सोनोवाल और वरुण गांधी। ये तीन नाम केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्‍तार की सुगबुगाहट शुरू होन के साथ ही चर्चा में आ गए थे। सिंधिया ने जिस तरह मध्‍य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिराने और बाद में उपचुनाव जिताने में भूमिका निभाई, उसका फल उन्‍हें केंद्रीय मंत्री की कुर्सी के रूप में मिल सकता है। सिंधिया आज ही दिल्‍ली लौट रहे हैं।

सोनोवाल ने हिमंता बिस्‍व सरमा के लिए असम के मुख्‍यमंत्री का पद छोड़ दिया। इसी के बाद अटकलें लगने लगी थीं कि उन्‍हें दिल्‍ली भेजा जाएगा। असम में पार्टी के भीतर किसी तरह की खींचतान न शुरू हो, इसके लिए भी सोनोवाल को केंद्र में जगह देने की पूरी तैयारी है। वे राज्‍यसभा के जरिए संसद पहुंच सकते हैं।

अपने आक्रामक तेवरों के लिए मशहूर वरुण गांधी को भी केंद्रीय कैबिनेट में जगह दी जा सकती है। गांधी उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से सांसद हैं जहां अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में यूपी के कोटे से वरुण को मोदी मंत्रिमंडल में शामिल क‍िया जा सकता है।

बिहार-यूपी पर बड़ा दांव!:

बिहार में लोक जनशक्ति पार्टी में चाचा-भतीजा के बीच जारी विवाद अभी थमा नहीं है. ऐसे में खबर है कि चाचा पशुपति कुमार पारस को मोदी सरकार में मौका मिल सकता है. इसके अलावा राज्य की राजनीति से बाहर चल रहे पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को भी नए मंत्रियों में जगह मिल सकती है. साथ ही जेडीयू कोटे से राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह, आरसीपी सिंह, रामनाथ ठाकुर, चंद्रेश्वर प्रसाद चंद्रवंशी, दिलेश्वर कामत, संतोष कुशवाहा समेत कई नेताओं का नाम चर्चा में है.

कैबिनेट में फेरबदल की चर्चाओं के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज शाम 5 बजे वरिष्‍ठ मंत्रियों और भाजपा अध्‍यक्ष जेपी नड्डा के साथ बैठक करने वाले थे। हालांकि अब खबर है कि यह बैठक कैंसिल हो गई है। मीटिंग में गृह मंत्री अमित शाह के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण समेत कई अन्‍य सीनियर मंत्री हिस्‍सा लेने वाले थे। पीएम ने ऐसी ही एक बैठक 20 जून को की थी। तब उन्‍होंने दो साल में सरकार के कामकाज की समीक्षा की थी।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker