दिल्लीभारत

बाबा का ढाबा: कांता प्रसाद ने सुसाइड की कोशिश की, शराब के नशे में खाई नींद की गोलियां

बाबा की सुसाइड की कोशिश की वजह अभी साफ नहीं है. मामले की जांच की जा रही है. यह घटना गुरुवार रात 10 साढ़े दस बजे के आस पास हुई. कांता प्रसाद की पत्नी बादामी देवी ने बताया कि जहां उन्होंने रेस्टोरेंट खोला था उस जगह का किराया 1 लाख रुपये था।

बाबा का ढाबा: कांता प्रसाद ने सुसाइड की कोशिश की, शराब के नशे में खाई नींद की गोलियां

नई दिल्ली. पिछले एक साल के दौरान फर्श से अर्श पर और फिर अर्श से फर्श पर आकर इंटरनेट मीडिया की सनसनी बने ‘बाबा का ढाबा’ के मालिक कांता प्रसाद को लेकर बड़ी खबर आ रही है।सूत्रों के मुताबिक, तनाव के चलते बृहस्पतिवार रात को कांता प्रसाद ने बड़ी मात्रा में नींद की गोलियां खाकर आत्महत्या करने कोशिश की। इसके बाद कांता प्रसाद को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां पर उनका इलाज चल रहा है। फिलहाल उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है, लेकिन उन्हें डॉक्टरों की गहन निगरानी में रखा गया है।

वहीं पुलिस का कहना है कि बाबा की सुसाइड की कोशिश की वजह अभी साफ नहीं है. मामले की जांच की जा रही है. यह घटना गुरुवार रात 10 साढ़े दस बजे के आस पास हुई. कांता प्रसाद की पत्नी बादामी देवी ने बताया कि जहां उन्होंने रेस्टोरेंट खोला था उस जगह का किराया 1 लाख रुपये था. वहीं आमदनी सिर्फ 30 हज़ार रुपये ही थी. इसीलिए बाबा कुछ समय से परेशान चल रहे थे और उन्होंने खुदकुशी की कोशिश की।

यह भी पढें, जया बच्चन की इस बात से भरी महफ़िल में इमोशनल हुई ऐश्वर्या राय, पुराना वीडियो हुआ वायरल

कांता प्रसाद की पत्नी बादामी देवी ने कहा कि मुझे कुछ नहीं पता, मुझे नहीं पता कि उन्होंने क्या खाया। मैंने उन्हें नहीं देखा था। वह बेहोश हो गए, मैं ढाबे पर बैठी थी। मैं उन्हें यहां ले आई। डॉक्टर ने अभी तक हमें कुछ नहीं बताया है। पता नहीं उनके दिमाग में क्या चल रहा था।
बीते दिनों जब गौरव वासन को एक बार फिर उनसे मिलने ढाबा पर पहुंचे थो तो गौरव को देखकर बाबा फूट-फूटकर रोने लगे थे। इतना ही ने बाबा ने गौरव के पैर पकड़ लिए और कहा कि गौरव की वजह से ही आज दुनिया उन्हें पहचानती है। इस दौरान बाबा गौरव के सिर पर हाथ रखकर दुआएं भी देते रहे।

बीते दिनों जब गौरव वासन को एक बार फिर उनसे मिलने ढाबा पर पहुंचे थो तो गौरव को देखकर बाबा फूट-फूटकर रोने लगे थे। इतना ही ने बाबा ने गौरव के पैर पकड़ लिए और कहा कि गौरव की वजह से ही आज दुनिया उन्हें पहचानती है। इस दौरान बाबा गौरव के सिर पर हाथ रखकर दुआएं भी देते रहे।

बता दें कि मालवीय नगर में सड़क किनारे एक छोटा सा ढाबा चलाने वाले कांता प्रसाद ने फेमस होने के बाद पिछले साल दिसंबर में इसी इलाके में एक नया रेस्टोरेंट खोला था, जो घाटे के चलते कुछ समय बाद ही बंद हो गया। हालात कुछ ऐसे बदल गए कि बाबा को लौटकर अपने पुराने ढाबे पर ही आना पड़ा है।

 

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker