दिल्लीभारत

भारत में कोरोना को तेजी से मात देने के लिए, 1 सप्ताह में लगाई 3.3 करोड़ वैक्सीन

भारत ने कोरोना पर अटैक तेज कर दिया है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर भारत में टीकाकरण के नए चरण की शुरुआत के बाद अब वैक्सीन लगाने की रफ्तार तेज हो गई है। इस सप्ताह भारत में करीब साढ़े तीन करोड़ वैक्सीन लगाई गई है।

भारत में कोरोना को तेजी से मात देने के लिए, 1 सप्ताह में लगाई 3.3 करोड़ वैक्सीन

नई दिल्ली. कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने भारत में जो तबाही मचाई उससे कोई अंजान नहीं। यहां हजारों की संख्या में लोगों ने जान गंवाई। मगर अब भारत ने कोरोना पर अटैक तेज कर दिया है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर भारत में टीकाकरण के नए चरण की शुरुआत के बाद अब वैक्सीन लगाने की रफ्तार तेज हो गई है। इस सप्ताह भारत में करीब साढ़े तीन करोड़ वैक्सीन लगाई गई है, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। भारत में एक दिन (21 जून को) में 80 लाख से अधिक लोगों को टीका लगाया गया था। यह संख्या स्विट्जरलैंड की आबादी के बराबर है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों में कहा गया है कि 21 जून से 26 जून के बीच 3.3 करोड़ से अधिक लोगों को वैक्सीन की खुराकें दी गई हैं। इससे पहले टीकाकरण का साप्ताहिक रिकॉर्ड 2.47 करोड़ खुराक का था जो कि 3 अप्रैल से 9 अप्रैल के बीच दर्ज किया गया था।

यह भी पढ़े, डब्ल्यूएचओ ने डेल्टा वेरिएंट को लेकर अपील की, बोले- वैक्सीन लेने वाले भी सावधानी बरतें

महाराष्ट्र में 3 करोड़ से अधिक लोगों को मिला टीका:

महाराष्ट्र शुक्रवार को 3 करोड़ से अधिक लोगों को कोविड -19 वैक्सीन खुराक देने वाला पहला राज्य बन गया। उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, गुजरात, पश्चिम बंगाल में भी वैक्सीन दिए जाने के आंकड़े दो करोड़ से तीन करोड़ खुराक के बीच हैं

टीकाकरण में तेजी आने का कारण:

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर भारत में टीकाकरण के नए चरण की शुरुआत की गई। इसके तहत कई राज्यों ने मेगा टीकाकरण शिविर आयोजित किए। इसी की मदद से 21 जून को टीकाकरण का एक दिन का आंकड़ा 80 लाख से अधिक हो गया। इसके बाद रोजाना टीकाकरण का आंकड़ा 80 लाख से घटकर करीब 60 लाख पर आ गया, लेकिन फिर भी सबसे ज्यादा साप्ताहिक टीकाकरण का रिकॉर्ड बना।

वैक्सीन कार्यक्रम और बढ़ेगा:

सरकार ने कहा है कि टीकाकरण की संख्या वास्तव में और बढ़ जाएगी क्योंकि भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया दोनों जुलाई, अगस्त में वैक्सीन प्रोडक्शन में तेजी ला रहे हैं। ऐसे में निजी अस्पताल भी अपने 25 प्रतिशत कोटे से वैक्सीन निर्माताओं से टीके खरीदना शुरू कर देंगे। सरकार ने पहले कहा था कि वह दिसंबर 2021 तक पूरी आबादी का टीकाकरण करेगी। हालांकि विशेषज्ञों के अनुसार, ग्रामीण क्षेत्रों में वैक्सीन की झिझक और सप्लाई में कमी इस समय चुनौती खड़ी कर सकती है।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker