दिल्लीभारत

साबरमती नदी व अन्य दो झीलों में मिला कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ खुलासा

साबरमती नदी में कोरोना वायरस पाया गया है. साबरमती के पानी के सैंपल लिए गए थे, जिसमें सभी में कोरोना संक्रमण मिला है. ये नदी राज्य में अहमदाबाद के बीच से निकलती है. देश की किसी नदी में कोरोना संक्रमण मिलने का यह पहला मामला है।

साबरमती नदी व अन्य दो झीलों में मिला कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ खुलासा

गुजरात. देश मे जानलेवा कोरोना वायरस की दूसरी लहर का प्रकोप जारी है. अब कोरोना से जुड़ी बड़ी खबर गुजरात से आई है, जहां मशहूर साबरमती नदी में कोरोना वायरस पाया गया है. साबरमती के पानी के सैंपल लिए गए थे, जिसमें सभी में कोरोना संक्रमण मिला है. ये नदी राज्य में अहमदाबाद के बीच से निकलती है. देश की किसी नदी में कोरोना संक्रमण मिलने का यह पहला मामला है.
इसके अलावा कांकरिया और चंदोला तालाब के सैंपल में भी कोरोना वायरस मिला है।

आपको बता दें कि IIT गांधीनगर और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पर्यावरण विज्ञान स्कूल के शोधकर्ताओं ने साबरमती नदी, चंदोला और कांकरिया झीलों के सैंपल इकट्ठा किए थे। IIT गांधीनगर में अर्थ साइंस के प्रोफेसर मनीष कुमार ने कहा कि झीलों और नदियों में कोरोना वायरस मिलना वाकई एक बहुत खतरनाक स्थिति को पैदा कर सकता है। मनीष कुमार ने कहा है कि 3 सितंबर से 29 दिसंबर 2019 के बीच हर सप्ताह एक बार पानी के सैंपल लिए गए थे। साबरमती नदी से 694 सैंपल इकट्ठा किए गए थे, जबकि चंदोला झील से 549 और कांकरिया झील से 402 सैंपल इकट्ठा किए गए थे।

यह भी पढें, तीसरी लहर: क्या देश मे अक्टूबर तक आ जाएगी तीसरी लहर, क्या है ओपिनियन पोल

इस अतिमहत्वपूर्ण रिसर्च में यह भी माना जा रहा है कि अब यह बेहद संक्रामक वायरस प्राकृतिक जल में भी जीवित रह सकता है और ज्यादा से ज्यादा मात्र में फ़ैल सकता है। इसलिए अब यहाँ के शोधकर्ताओं का यह भी मानना है कि अब जितनी जल्दी हो सके देश की सभी प्राकृतिक जल स्त्रोत की जांच भिस इसी प्रकार होनी चाहिए, क्योंकि कोरोना की दूसरी लहर में इस बेहद संक्रामक वायरस के कई गंभीर म्यूटेशन भी देखने मिले हैं और इनके आगे अब और बढ़ने की भी सम्भावना हो सकती है।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker