दिल्लीभारत

सितंबर तक आ सकती है 2 साल से अधिक उम्र के बच्चों की वैक्सीन

सिंतबर तक 2 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए देश में कोवैक्सीन उपलब्ध होने की उम्मीद है। दूसरे/तीसरे चरण को पूरा करने के बाद बच्चों के लिए कोवैक्सिन का डेटा सितंबर तक उपलब्ध होगा।

सितंबर तक आ सकती है 2 साल से अधिक उम्र के बच्चों की वैक्सीन

नई दिल्ली. देशभर में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण की नई रफ्तार मिली है. अब देश के हर नागरिक को मुफ्त में टीका लगाया जा रहा है. इसी बीच दिल्ली एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया का कहना है कि सिंतबर तक 2 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए देश में कोवैक्सीन उपलब्ध होने की उम्मीद है।

डॉ गुलेरिया ने इंडिया टुडे को बताया कि ट्रायल के दूसरे/तीसरे चरण को पूरा करने के बाद बच्चों के लिए कोवैक्सिन का डेटा सितंबर तक उपलब्ध होगा। इसी महीने वैक्सीन को अप्रूवल मिलने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि अगर भारत में फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन को हरी झंडी मिल जाती है तो वह भी बच्चों के लिए एक विकल्प हो सकता है।

यह भी पढें, corona vaccine for kids: क्या बच्चों के लिए नेजल स्प्रे रहेगा अच्छा?

दिल्ली एम्स ने इन परीक्षणों के लिए बच्चों की स्क्रीनिंग पहले ही शुरू कर दी है. यह 7 जून को शुरू हुआ और इसमें 2 से 17 साल की उम्र के बच्चे शामिल हैं. 12 मई को, DCGI ने भारत बायोटेक को दो साल से कम उम्र के बच्चों पर कोवैक्सिन के 2/3 का परीक्षण करने की अनुमति दी थी।

डॉ गुलेरिया ने कहा कि उनके पास यह मानने का कोई कारण नहीं है कि आने वाली लहर में बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे। उन्होंने कहा कि देश में अब बच्चे भी वायरस के संपर्क में हैं और टीकाकरण न होने के बावजूद भी उन्हें कुछ मात्रा में सुरक्षा प्राप्त है।

रणदीप गुलेरिया ने आगे कहा कि नीति निर्माताओं को अब स्कूलों को इस तरह से खोलने पर विचार करना चाहिए जिससे कि कोरोना वायरस ज्यादा न फैले। उन्होंने आगे कहा कि इसके लिए एक समग्र दृष्टिकोण अपनाया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि नॉन कंटेनमेंट वाले क्षेत्रों में बच्चों को वैकल्पिक दिन पर स्कूल बुलाने और कोरोना के नियमों का पालन करवाने बहुत मदद मिलेगी।

 

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker