दिल्ली

महेंद्र सिंह धोनी बने टीम इंडिया के मेंटॉर, बीसीसीआई सचिव जय शाह ने घोषणा कर कहा यह

महेंद्र सिंह धोनी टी20 विश्व कप के लिये टीम के मेंटॉर (मार्गदर्शक) होंगे. मैंने उनसे दुबई में बात की थी. उन्होंने केवल विश्व कप टी20 के लिये मेंटॉर बनने पर सहमति दी थी और मैंने अपने सभी साथियों

महेंद्र सिंह धोनी बने टीम इंडिया के मेंटॉर, बीसीसीआई सचिव जय शाह ने घोषणा कर कहा यह

नई दिल्ली. बीसीसीआई सचिव जय शाह ने विश्व कप के लिए टीम की घोषणा करते हुए प्रेस कांफ्रेंस में कहा, “पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी टी20 विश्व कप के लिये टीम के मेंटॉर (मार्गदर्शक) होंगे. मैंने उनसे दुबई में बात की थी. उन्होंने केवल विश्व कप टी20 के लिये मेंटॉर बनने पर सहमति दी थी और मैंने अपने सभी साथियों से इस संबंध में चर्चा की और सभी इस पर सहमत हैं. मैंने कप्तान (विराट कोहली) और उप कप्तान (रोहित शर्मा) से बात की और सभी सहमत हैं.”

यह भी पढ़े, विधानसभा के सत्र में होगा हंगामा, इन मुद्दों पर विपक्ष घेरेगा सरकार

टीम इंडिया (India Squad for T20 World Cup) ने 17 अक्टूबर से शुरू हो रहे टी20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup 2021) के लिए 15 सदस्यीय टीम का ऐलान कर दिया है. विराट कोहली की अगुवाई में भारतीय चयनकर्ताओं ने बेहद ही संतुलित टीम चुनी है. टीम में युवा और अनुभवी खिलाड़ियों का मिश्रण किया गया है. कुछ चौंकाने वाले फैसले भी किये गए हैं जिसमें रविचंद्रन अश्विन की वापसी शामिल है जो पूरे 4 सालों के बाद टी20 टीम में चुने गए हैं.

साल 2017 में अश्विन ने आखिरी बार टी20 खेला था और अब उन्हें अचानक टी20 वर्ल्ड कप के लिए चुना गया है. उनके अलावा महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) को टीम इंडिया का मेंटॉर बना दिया गया है जो कि बीसीसीआई के मास्टर-स्ट्रोक के तौर पर देखा जा रहा है. आइए आपको बताते हैं धोनी बिना मैदान में उतरे ही कैसे टीम इंडिया को जिता सकते हैं टी20 वर्ल्ड कप?

40 साल के धोनी ने पिछले साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर से संन्यास ले लिया था. वह भारत के लिये अंतिम मैच 2019 विश्व कप सेमीफाइनल में खेले थे. माना जा रहा है कि उन्हें सीमित ओवरों की क्रिकेट के लिये रणनीति तैयार करने में उनके अनुभव को देखते हुए इस भूमिका के लिये चुना गया है. वह जानते हैं कि आईसीसी (अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) के महत्वपूर्ण टूर्नामेंट में जीत कैसे दर्ज की जा सकती है. इसमें कोहली इतने अनुभवी नहीं हैं.

भारतीय क्रिकेट के इतिहास में सबसे सफल कप्तानों में शुमार विकेटकीपर बल्लेबाज धोनी की अगुवाई में भारत ने दो विश्व कप खिताब (दक्षिण अफ्रीका में 2007 टी20 विश्व कप और भारत में 2011 वनडे विश्व कप) जीते हैं.

धोनी का बेश्कीमती अनुभव: टी20 वर्ल्ड कप में महेंद्र सिंह धोनी का अनुभव टीम इंडिया के बहुत काम आने वाला है. टी20 क्रिकेट की बात करें तो धोनी ने 98 टी20 इंटरनेशनल और 211 आईपीएल मैच खेले हैं. धोनी ने इन सभी मुकाबलों में विकेटकीपिंग की है. बतौर कप्तान उनके अनुभव की कोई कीमत नहीं. मैच कब, कहां और कैसे करवट बदल सकता है ये धोनी से ज्यादा शायद ही कोई क्रिकेटर जानता हो. टी20 वर्ल्ड कप में धोनी अपने अनुभव के दम पर ही टीम इंडिया को चैंपियन बना सकते हैं.

विश्व कप के लिए टीम इंडिया- विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उप कप्तान), केएल राहुल, सूर्यकुमार यादव, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), ईशान किशन (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, रविंद्र जडेजा, राहुल चाहर, रविचंद्रन अश्विन, अक्षर पटेल, वरुण चक्रवर्ती, जसप्रीत बुमराह , भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी.

बैटिंग ऑर्डर पर धोनी की सलाह आएगी काम: आईसीसी टूर्नामेंट में अकसर टीम इंडिया के बैटिंग ऑर्डर में समस्या दिखाई दी है. 2019 वर्ल्ड कप में भी चौथे नंबर के बल्लेबाज को लेकर असमंजस की स्थिति रही. टी20 वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया ने ऐसे बल्लेबाज टीम में चुने हैं जो किसी भी नंबर पर ताबड़तोड़ रन बना सकते हैं लेकिन किस बल्लेबाज को किस मौके पर भेजना है, उसे किस नंबर पर उतारना है? इन सवालों का जवाब धोनी से ज्यादा शायद ही कोई जानता होगा.

गेंदबाजी अटैक की रणनीति तय कर सकते हैं माही- महेंद्र सिंह धोनी भले ही बेहतरीन बल्लेबाज और विकेटकीपर हैं लेकिन उन्हें गेंदबाजों का कप्तान कहा जाता है. दरअसल धोनी की सलाह अकसर गेंदबाजों के काम आती है. चाहे वो युजवेंद्र चहल हों, कुलदीप यादव हों, दीपक चाहर हों या फिर शार्दुल ठाकुर. ये सभी गेंदबाज अपनी सफलता में धोनी का बेहद अहम योगदान मानते हैं. धोनी टी20 वर्ल्ड कप 2021 के दौरान अपनी सलाह से गेंदबाजों की धार और ज्यादा तेज कर सकते हैं.

प्लेइंग इलेवन का सही चयन संभव- टीम इंडिया ने टी20 वर्ल्ड कप के लिए बेहद मजबूत स्क्वाड तो चुना है लेकिन किन खिलाड़ियों को प्लेइंग इलेवन में होना चाहिए और किसे बाहर ये फैसला करना भी बेहद अहम है. धोनी, विराट और रोहित शर्मा मिलकर मजबूत और संतुलित प्लेइंग इलेवन चुन सकते हैं.

महेंद्र सिंह धोनी की सबसे बड़ी खासियत ये है कि वो टीम इंडिया के हर खिलाड़ी को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं. क्या उनकी ताकत है और क्या कमजोरी ये उन खिलाड़ियों से ज्यादा धोनी को पता होता है. शायद यही वजह है कि वो औसत खिलाड़ियों को भी मैच विनर में तब्दील कर देते हैं. टी20 वर्ल्ड कप में भी माही अपना यही मैजिक दिखा सकते हैं.

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer