दिल्लीभारत

ICMR का अध्ययन: वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी 76 फीसदी में मिला संक्रमण

ICMR की अध्ययन रिपोर्ट चिंता बढ़ाने वाली है। कोरोना टीकाकरण और संक्रमण को लेकर ICMR ने देश का पहला अध्ययन जारी किया है. इसके तहत बताया गया है कि कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी 76 फीसदी लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं.

ICMR का अध्ययन: वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी 76 फीसदी में मिला संक्रमण

New Delhi: भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) की यह अध्ययन रिपोर्ट चिंता बढ़ाने वाली है। कोरोना टीकाकरण और संक्रमण को लेकर ICMR ने देश का पहला अध्ययन जारी किया है. इसके तहत बताया गया है कि कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी 76 फीसदी लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं. इनमें लगभग 10 फीसदी को अस्पतालों में भी भर्ती करना पड़ा. हालांकि, मौत नहीं के बराबर है.

अध्ययन के दौरान 361 लोगों की जांच में 274 की आरटी पीसीआर जांच पॉजीटिव पाई गई। वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के 14 दिन बाद यह लोग कोरोना वायरस की चपेट में आए। कोविशील्ड और कौवैक्सीन ICMRको लेकर चल रहे विवाद पर भी ICMR ने स्पष्ट किया है कि कोविशील्ड लेने वालों में अधिक एंटीबॉडी बन रही हैं जबकि कौवैक्सीन लेने वालों में एंटीबॉडी 77 फीसदी ही मिली हैं।

यह भी पढ़े, गुलियन बेरी सिंड्रोम: कोविशिल्ड वैक्सीन का हुआ उल्टा असर, फैल रही नर्वस सिस्टम से जुड़ी यह बीमारी

मेडिकल जर्नल रिसर्च स्कवायर में प्रकाशित इस अध्ययन के अनुसार भुवनेश्वर स्थित आईसीएमआर की क्षेत्रीय लैब में देश भर से वैक्सीन ले चुके 361 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। जांच में सभी सैंपल कोरोना संक्रमित मिले लेकिन 87 सैंपल को अध्ययन से बाहर करना पड़ा क्योंकि इन लोगों ने वैक्सीन की दोनों खुराक नहीं ली थीं। जांच में 274 लोगों में वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद संक्रमण का पता चला। इनमें से 35 (12.8 फीसदी) लोगों ने कोवाक्सिन की दोनों खुराक लीं। जबकि 239 (87.2 फीसदी) ने कोविशील्ड की दोनों खुराक ली थीं।

इसी साल एक मार्च से 10 जून तक चले अध्ययन में पता चला कि कौवैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद संक्रमित हुए 43 फीसदी स्वास्थ्य कर्मचारी थे जो दूसरी लहर के दौरान कोविड वार्ड इत्यादि जगहों पर कार्य कर रहे थे। वहीं कोविशील्ड लेने के बाद 10 फीसदी स्वास्थ्य कर्मचारी संक्रमित मिले। दो खुराक लेने के बाद संक्रमण की चपेट में आने के बीच औसतन अवधि 45 दिन देखी गई है। जबकि कौवैक्सीन लेने वालों में 33 दिन के दौरान ही संक्रमण हुआ है।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker