दिल्ली

Third wave: अगस्‍त के अंत तक आ सकती तीसरी लहर, दूसरी लहर के मुकाबले हो सकती है कम घातक-ICMR ने दी चेतावनी

Third wave: तीसरी लहर अगस्त के अंत तक आएगी. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि ये दूसरी लहर की तुलना में थोड़ी कम घातक होगी।

Third wave in india:

नई दिल्‍ली. देश में कोरोना की दूसरी लहर अभी पूरी तरह से खत्‍म भी नहीं हुई है कि तीसरी लहर (Third Wave) की चेतावनी जारी कर दी गई है. कई राज्‍यों में लॉकडाउन (Lockdown) में छूट और हिल स्‍टेशन में तेजी से बढ़ती भीड़ को देखकर भले ही ऐसा अंदाजा लगाया जा रहा है कि अब सबकुछ सामान्‍य हो गया है, लेकिन ऐसा नहीं है. लोगों की लापरवाही से देश में तेजी से हालात बिगड़ रहे हैं. कई राज्‍यों में कोरोना के बढ़ते केस को देखते हुए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के प्रमुख वैज्ञानिक प्रोफेसर समीरन पांडा ने आशंका व्यक्त की है कि भारत में कोविड-19 (COVID-19) की तीसरी लहर अगस्त के अंत तक आएगी. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि ये दूसरी लहर की तुलना में थोड़ी कम घातक होगी।

यह भी पढ़े, भारत मे बनी कोरोना वैक्सीन को मिली मान्यता, फ्रांस ने भी दिखाई हरी झंडी

डॉ. पांडा के हवाले से कहा गया, “एक राष्ट्रव्यापी तीसरी लहर (Third wave) होगी, लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि ये दूसरी लहर जितनी घातक या उतनी ही तेज होगी।”
इसके लिए डॉ. पांडा ने चार प्वाइंट्स की तरफ इशारा किया, जो तीसरी लहर का कारण बन सकते हैं। पहली और दूसरी लहर से बढ़ी इम्यूनिटी में गिरावट है। उन्होंने कहा “अगर ये नीचे जाती है, तो ये तीसरी लहर को जन्म दे सकती है।”

दूसरा कारण, उनके अनुसार, एक नया वेरिएंट है, जो बढ़ी हुई इम्यूनिटी को बायपास कर सकता है। यहां तक ​​​​कि अगर वेरिएंट इम्यूनिटी को दरकिनार नहीं करता है, तो इसमें तेजी से फैलने की क्षमता हो सकती है, जिसे उन्होंने तीसरा कारण बताया। डॉ. पांडा ने कहा कि चौथा कारण राज्यों की तरफ से समय से पहले प्रतिबंध हटाने का है, जिससे संक्रमण के मामलों में एक ताजा उछाल आया है।

ये पूछे जाने पर कि क्या इस लहर में वेरिएंट डेल्टा प्लस हो सकता है, उन्होंने कहा कि डेल्टा और डेल्टा प्लस दोनों ने देश में एंट्री कर ली है। उन्होंने आगे कहा कि उन्हें डेल्टा वेरिएंट से और ज्यादा कहर की उम्मीद नहीं थी।

इस सप्ताह की शुरुआत में, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने कहा कि तीसरी लहर “जरूर और जल्द” आएगी। IMA ने इसका इशारा करते हुए कहा, “देश के कई हिस्सों में सरकार और जनता दोनों आत्मसंतुष्ट हैं और कोविड प्रोटोकॉल का पालन किए बिना सामूहिक समारोहों में लगे हुए हैं।”
केंद्र ने गुरुवार को राज्यों के साथ देश के कई हिस्सों में COVID-19 नियमों के उल्लंघन का मुद्दा उठाया। कुछ दिनों पहले स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि लोग तीसरी लहर (Third wave) के बारे में भविष्यवाणियों को उतनी ही गंभीरता से ले रहे हैं, जितनी कि मौसम की भविष्यवाणी को लेते हैं।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker