फैक्ट चेक

फैक्ट चेक: क्या तेजस ट्रेन में बासी खाना खाने से 3 यात्री आईसीयू में पहुंच गए?

इस तस्वीर को शेयर करते हुए कैप्शन दिया गया है, 'ये हाल देश की सबसे अच्छी ट्रेन का है'. इस पोस्ट को 30 अक्टूबर को शेयर किया गया है जिसे खबर लिखे जाने तक एक हजार बार शेयर किया जा चुका है.

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रहा है जिसमें दावा किया कि तेजस ट्रेन का खाना खाकर लोग बीमार पड़ रहे हैं.

वायरल पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि तेजस में बासी खाना परोसा जा रहा है, जिससे 24 यात्री बीमार हो गए और 3 को तो आईसीयू में भी भर्ती कराना पड़ा.

फेसबुक पेज ‘Viral in India’ ने 30 अक्टूबर को एक पोस्ट अपलोड करते हुए लिखा, ‘ये हाल देश की सबसे अच्छी ट्रेन का है.’

पोस्ट में तेजस ट्रेन का फोटो, साथ में ट्रेन में परोसे जाने वाले खाने का फोटो लगाया गया है और उसके ऊपर लिखा गया है, ‘मौत से मिला रही तेजस एक्सप्रेस.’ फोटो के नीचे लिखा गया है, ‘तेजस का खाना खाने से 24 यात्रियों की हालत खराब, 3 यात्री आइसीयू में जिंदगी और मौत से लड़ रहे.’ इस पोस्ट पर लोग तरह तरह के कमेंट कर रहे हैं, जैसे- ‘आ गए अच्छे दिन’ और ‘हर जगह घोटाला’ वगैरह.

इस वायरल पोस्ट को फेसबुक पर एक हजार ज्यादा यूजर्स ने शेयर किया है. Daily Bihar व न्यूज़हंट नाम की वेबसाइट ने भी इसे खबर को पोस्ट किया.

ट्विटर पर भी इसे हिन्दुतान अखबार की पुरानी खबर के साथ वायरल किया गया .

क्या है इस पोस्ट की सच्चाई?

जब हमने इस खबर की तहकीकात करने के लिए गूगल पर ‘तेजस के खाने से बीमार लोग’ की वर्ड के साथ सर्च किया तो हमारे सामने साल 2017 में छपी कई खबरें मिली जिसमें तेजस का खाना खाकर लोगों के बीमार पड़ने की बात थी.

सोशल मीडिया में  वायरल पोस्ट में किया जा रहा दावा भ्रामक है और महज सरकार को घेरने का प्रोपगेंडा है और . दरअसल, ये मामला 15 अक्टूबर 2017 को गोवा से मुंबई आ रही तेजस एक्‍सप्रेस  का है.

उस समय कुछ यात्रियों ने तबियत खराब होने की शिकायत जरूर की थी, लेकिन कोई भी आईसीयू में भर्ती नहीं हुआ था.

जनसत्ता की रिपोर्ट के मुताबिक मामला गोवा से मुंबई जा रही तेजस एक्सप्रेस का था जिसमें खाना खाकर करीब 24 यात्री बीमार पड़ गए थे. इसके बाद उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया दिया गया था जहां इलाज के बाद डॉक्टरों ने उन्हें खतरे से बाहर बताया.

 

आगे खबर की सच्चाई तलाशते हुए इंडिया डॉट कॉम की एक मीडिया रिपोर्ट मिली जिसमें घटना के बाद रेलवे का बयान था। रेलवे ने इन लोगों के बीमार होने पर कहा था कि तेजस में लोग खराब खाने से बीमार नहीं हुए थे बल्कि एसी कोच में दो बच्चों की उलटी के बाद कोच में बेचैनी शुरू हुई और लोग बीमार हुए। वहीं सेंट्रल रेलवे की टीम की ओर से आई जाँच रिपोर्ट में कहा गया है कि खाना ‘संतोषजनक’ था।

अंततः इस पूरी पड़ताल से साफ है कि इस समय वायरल तेजस की यह खबर की ख़राब खाने की वजह से यात्री बीमार हुए निराधार है। बस सरकार और उसकी नई व्यवस्था को घेरने की बदनीयत से इस खबर को फैलाया गया और लोगों ने भी बिना सच्चाई परखें इस अफवाह तंत्र के शिकार हुए। हमारी पड़ताल से यह स्पष्ट है कि यह खबर फेक है।

Topics
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker