स्वास्थ्य

भारतीय तटरक्षक बल ने बंगाल की खाड़ी में फंसे 11 मछुआरों को किया एयरलिफ्ट

भुवनेश्वर, 9 मई ()। भारतीय तटरक्षक बल ने चक्रवात आसनी के कारण खराब मौसम के बीच ओडिशा के गंजम जिले के पति सोनापुर समुद्र तट के पास बंगाल की खाड़ी में फंसे 11 मछुआरों को सफलतापूर्वक एयरलिफ्ट किया गया है। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी।

विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) पी. के. जेना ने बताया कि आंध्र प्रदेश के विजाग से नाव में सवार 11 मछुआरे गंजम जिले के पति सोनपुर समुद्र तट के पास फंस गए। पति सोनपुर समुद्र तट के पास समुद्र में उनकी नाव खराब होने के कारण वे लहरों से नहीं निपट पाए।

जेना ने कहा कि शाम 4.32 बजे मछुआरों के बारे में सूचना मिलने के तुरंत बाद उन्होंने भुवनेश्वर और पारादीप में तैनात भारतीय तटरक्षक अधिकारियों के साथ चर्चा की।

एसआरसी ने एक ट्वीट में कहा, हेलीकॉप्टर ने शाम 4.55 बजे उड़ान भरनी शुरू कर दी थी और सभी 11 फंसे हुए लोगों को हेलीकॉप्टर ऑपरेशन के माध्यम से शाम 6.15 बजे तक बचा लिया गया। यह एक बड़ा ऑपरेशन था। भारतीय तटरक्षक बल द्वारा एक उत्कृष्ट उपलब्धि. बिजली जैसी तेज प्रतिक्रिया, पूर्ण सटीक हवाई बचाव और यह इतनी तेजी से किया गया। टीम के लिए गौरव।

फील्ड में अभियान की निगरानी कर रहे बरहामपुर के सब-कलेक्टर कीर्ति वासन वी. ने कहा कि 11 मछुआरे मछली पकड़ने की नाव खरीदने के लिए आंध्र प्रदेश गए थे। उन्होंने कहा कि लौटते समय, समुद्र की स्थिति बहुत खराब हो गई थी, वे तट पर लौटने में असमर्थ थे और समुद्र में लगभग 4-5 किमी गहरे इलाके में फंस गए थे।

उन्होंने बताया कि वहां मोबाइल नेटवर्क पहुंच रहा था। इसलिए मछुआरों ने सबसे पहले अपने परिजनों को अपनी स्थिति की जानकारी दी। पहले स्थानीय मछुआरों ने उन्हें बचाने का प्रयास किया। हालांकि, वे समुद्र में उच्च ज्वार के कारण इसमें विफल रहे।

उसके बाद स्थानीय लोग जिला प्रशासन के पास पहुंचे। सबसे पहले, भारतीय तटरक्षक बल ने समुद्र के रास्ते बचाव अभियान चलाने की कोशिश की। समुद्र की स्थिति बहुत खराब होने के कारण वे ऑपरेशन को अंजाम देने में असमर्थ रहे।

सब-कलेक्टर ने कहा कि बाद में, भारतीय तटरक्षक बल ने हवाई मार्ग से अभियान शुरू किया और एक घंटे के भीतर सभी मछुआरों को बचा लिया। उन्होंने बताया कि बचाए गए सभी मछुआरों को आवश्यक स्वास्थ्य जांच के लिए स्थानीय अस्पतालों में भेज दिया गया है।

एकेके/एएनएम