स्वास्थ्य

स्टैमिना बढ़ाना चाहते तो इस योगासन को करे न थकान होगी न फूलेगी सांस

स्टैमिना एनर्जी को बढ़ा सकता हैं, अपने आप को सेहतमंद रखने के लिए योगा या व्यायाम करना चाहिए। योगा करने से...तो आइए आज हम आपको एक ऐसे ही योगासन के बारे में बताते हैं।

स्टैमिना बढ़ाना चाहते तो इस योगासन को करे न थकान होगी न फूलेगी सांस

आजकल काम की इस दौड़भाग में आप अपना ज्यादातर समय बैठकर बिता देते हैं। जिससे आपके शरीर की शरीर ऊर्जा और स्टैमिना में कमी आना जायज सी बात है।

दिनभर बैठे-बैठे काम करने से आप जल्दी ही आलस या थकावट महसूस होने लगती है। आपका शारीरिक तौर पर अनएक्टिव होने से आपके शरीर को कई गंभीर बीमारियों के होने की आशंका बनी रहती है। इसके कारण आपको सांस फूलने ये आस्थमा जैसी बढ़ी बीमारी हो सकती है।

यह भी पढ़े, स्टैमिना बढ़ाने के लिए करे यह आसान योगासन, न सांस फूलेगी और न ही होगी थकान

आपको अपने आप को सेहतमंद रखने के लिए योगा या व्यायाम करना चाहिए। योगा करने से आप अपनी एनर्जी और स्टैमिना दोनों को ही बढ़ा सकते हैं, तो आइए आज हम आपको एक ऐसे ही योगासन के बारे में बताते हैं।

वीरभद्रासन-2 करने की सही विधि:

इसके लिए आप अपने पैरों को 4 से 5 फीट खोलकर खड़े हो जाएं। फिर अपने बाएं पैर को जमीन से 90 डिग्री पर रखकर बाएं पैर के पंजे को बाहर की ओर ले जाएं।

अब अपने दाएं पैर को जमीन से 45 डिग्री पर स्थित करें। इसके बाद आप अपने दोनों हाथों को कंधों के समानांतर जमीन के समान ले आएं।

फिर अपने बाएं घुटने को मोड़कर बाएं हाथ की उंगलियों की ओर देखें। इसके बाद अपने बाएं घुटने को इतना मोड़ें कि बायीं जांघ जमीन के समान आ जाए। फिर कुछ वक्त तक इस पोजिशन में रहकर दूसरी ओर से भी इसी प्रक्रिया को दोहराएं।

वीरभद्रासन-2 करने का सही समय:

इसको आप सुबह खाली पेट करें। इस आसन को करने से पहले ताड़ासन और शवासन जरूर करने चाहिए। इस आसन को करने दौरान आपको एक पोजिशन को निश्चित वक्त तक रोकना आवश्यक होता है।

आपको एक ओर इस पोजिशन में कम से कम 10 से 15 सेकंड तक रहना चाहिए। उसके बाद पोजिशन बदलनी चाहिए। आप अपने स्टैमिना को बढ़ाने के लिए धीरे-धीरे इस आसन की अवधि को जरूर बढ़ाएं।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer