भारत

कर्नाटक: ठेकेदार आत्महत्या मामले में लगातार बढ़ रही ईश्वरप्पा की गिरफ्तारी की मांग

बेंगलुरु, 16 अप्रैल ()। अखिल भारत हिंदू महासभा, कर्नाटक ने शनिवार को सत्तारूढ़ भाजपा सरकार से पूर्व मंत्री के. एस. ईश्वरप्पा को बेलगावी के एक ठेकेदार की आत्महत्या के मामले में गिरफ्तार करने की मांग की।

महासभा के प्रदेश अध्यक्ष राजेश पवित्रन ने कहा कि ईश्वरप्पा के मंत्रिमंडल से इस्तीफे से यह मामला नहीं सुलझेगा और यह गैर जमानती अपराध है।

उन्होंने कहा, ईश्वरप्पा अपनी राजनीतिक शक्ति और प्रभाव का उपयोग करके सबूतों को नष्ट कर सकते हैं। उनके भ्रष्टाचार के कारण, एक हिंदू कार्यकर्ता ने अपनी जान गंवाई है। भाजपा ने भ्रष्टाचार के मामले में पिछले 60 वर्षों के कांग्रेस पार्टी के रिकॉर्ड को तोड़ा है।

राजेश ने कहा, यह अकेला मामला नहीं है, कर्नाटक में भाजपा के कई नेता काम का 40 प्रतिशत कमीशन प्राप्त कर रहे हैं और राज्य का खजाना लूट रहे हैं। इस संबंध में एक जांच की जानी चाहिए। लोग चिंतित हैं कि यदि बहुमत 40 प्रतिशत कमीशन के माध्यम से बजटीय आवंटन भाजपा नेताओं की जेब में जा रहा है, तो फिर विकास का क्या हाल होगा।

उन्होंने कहा कि हिंदू महासभा इस संबंध में राज्यपाल को पत्र लिख रही है।

राजेश पवित्रन ने दोहराया, चूंकि ईश्वरप्पा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जा रही है और उन्हें मुख्य आरोपी बनाया जा रहा है, इसलिए उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

बेलगावी के एक ठेकेदार और भाजपा नेता संतोष के. पाटिल ने 12 अप्रैल को उडुपी के एक लॉज में जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी।

उन्होंने मीडियाकर्मियों को संदेश भेजकर आरोप लगाया था कि ईश्वरप्पा ने उनसे हिंडाल्गा ग्राम पंचायत की सीमा में 4 करोड़ रुपये की परियोजनाओं की धनराशि जारी करने का वादा किया था।

उन्होंने आगे कहा कि काम पूरा होने के बाद, ईश्वरप्पा ने पैसे जारी करने से इनकार कर दिया और 40 प्रतिशत कमीशन की मांग की।

उनके निधन के बाद ईश्वरप्पा ने शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। प्रदेश में विपक्ष भी लगातार उनकी गिरफ्तारी की मांग कर रहा है।

एकेके/एएनएम