भारत

केरल के नौकरशाह शिवशंकर का वीआरएस अनुरोध खारिज

तिरुवनंतपुरम, 13 अप्रैल ()। केरल की पिनाराई विजयन सरकार द्वारा उन्हें और अधिक जिम्मेदारियां दिए जाने के एक दिन बाद, शीर्ष नौकरशाह एम. शिवशंकर के स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के आवेदन को बुधवार को मुख्य सचिव वी.पी. जॉय ने खारिज कर दिया। शिवशंकर कुख्यात सोना तस्करी मामले में आरोपी हैं।

उन्हें 31 जनवरी, 2023 को सेवानिवृत्त होना था

पिछले हफ्ते उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) का लाभ उठाने का अनुरोध किया था। लेकिन, तकनीकी आधार पर इसे खारिज कर दिया गया और सूत्रों के मुताबिक एक कारण यह भी था कि चूंकि उनके खिलाफ मामले हैं, इसलिए उन्हें वीआरएस देना संभव नहीं होगा।

शिवशंकर विजयन के प्रधान सचिव थे, जब 2020 में उनका नाम सोने की तस्करी मामले में मुख्य आरोपी स्वप्ना सुरेश के साथ सामने आया था। उसी साल अक्टूबर में शिवशंकर को जेल भेज दिया गया।

उन्हें फरवरी 2021 में जमानत मिली और इस साल जनवरी में उन्हें बहाल कर दिया गया।

उन्हें प्रमुख सचिव युवा एवं खेल मामले के पद पर तैनात किया गया और मंगलवार को विजयन सरकार ने उन्हें पशुपालन एवं डेयरी विकास का अतिरिक्त प्रभार दिया था।

एसकेके/एसकेपी