दिल्ली

जितिन प्रसाद के पार्टी बदलने से बढ़ी राहुल गांधी की चिंता

जितिन प्रसाद: राहुल गांधी के करीबियों में ज्योतिरादित्य सिंधिया, जितिन प्रसाद, सचिन पायलट और मिलिंद देवड़ा शामिल थे लेकिन इनमें से 2 ने भाजपा का हाथ थाम लिया है और राहुल गांधी के साथ अब केवल दो ही रह गए है।

जितिन प्रसाद के पार्टी बदलने से बढ़ी राहुल गांधी की चिंता

नई दिल्ली. भाजपा का दामन थामने वाले युवा कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद (Jitin Prasad) के पार्टी बदलने से राहुल गांधी की चिंता बढ़ गयी है।

यह राहुल गांधी के करीबी चार लोगों में से एक थे। आपको बता दे कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पहले ही कमल को थाम लिया था और अब इसके बाद जितिन प्रसाद का यह कदम कांग्रेस के लिए एक बड़े झटके से कम नही है।

राहुल गांधी के करीबियों में ज्योतिरादित्य सिंधिया, जितिन प्रसाद, सचिन पायलट और मिलिंद देवड़ा शामिल थे लेकिन इनमें से 2 ने भाजपा का हाथ थाम लिया है और राहुल गांधी के साथ अब केवल दो ही रह गए है।

यह भी पढ़ें, Bank Holiday: अगले 7 में से 3 दिन बंद रहेंगे यह बैंक, चेक करे पूरी लिस्ट

यह चारों इतने भरोसेमंद हुआ करते थे कि कगत था जैसे आने वाले समय मे यही पार्टी को मजबूती देंगे। लेकिन इन खबरों को देखते हुए इस काम मे अब सन्देह होने लगा है।
आपको बता दे कि राहुल गांधी के करीबी यह दो युवा नेता भी कांग्रेस से नाराज चल रहे है।

जितिन प्रसाद के पार्टी बदलने से बढ़ी राहुल गांधी की चिंता

भाजपा ने सिंधिया व जितिन प्रसाद को अपनी पार्टी में लाकर खुद को मजबूत कर कांग्रेस को
एक बड़ी चुनौती दी है।

सचिन पायलट और मिलिंद देवड़ा क्यों है नाराज

ज्योतिरादित्य सिंधिया, जितिन प्रसाद, सचिन पायलट और मिलिंद देवड़ा यह चारों राहुल गांधी की युवा टीम में सबसे खास हुआ करते थे और हमेशा चर्चा का विषय हुआ करते थे। संसद के बाहर भी यह चारों साथ ही दिखा करते थे।

सिंधिया व जितिन ने पार्टी बदलकर कांग्रेस को झटका दिया है वही बाकी बचे सचिन पायलट व मिलिंद देवड़ा भी कांग्रेस से नाराज है।
सचिन पायलट की नाराजगी इतनी बढ़ गयी कि पिछले साल राजस्थान में भूचाल आ गया था। हालांकि गांधी परिवार की पूरी मशक्‍कत के बाद पायलट मान गए व गहलोत सरकार बच गई।

जितिन प्रसाद के पार्टी बदलने से बढ़ी राहुल गांधी की चिंता

लेकिन अब भी इन दोनों का झगड़ा खत्म नही हुआ है।
वहीं 44 वर्षीय मिलिंद देवड़ा भी तमतमाए दिख रहे हैं। उनके कुछ ऐसे बयान है जिनकी वजह से यह साफ झलकता है कि वे कांग्रेस से नाराज है,

जिनमे “भारत-चीन मसले पर राहुल गांधी के रुख पर सवाल उठाना, महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपीके साथ गठबंधन की सरकार पर बयान, पीएम मोदी की तारीफ और कांग्रेस के तौरतरीकों में बदलाव के लिए तमाम नेताओं ने साथ सोनिया को चिट्ठी लिखना जैसी बातें शामिल हैं।

यही नही ऐसी और भी काफी चीजें है जो इनकी नाराजगी कांग्रेस को लेकर दर्शाती है।

इसी बीच सिंधिया व जितिन प्रसाद के यह कदम मिलिंद देवड़ा व सचिन पायलट की नाराजगी को और ज्यादा बढ़ा सकते है।
अब यह देखना होगा कि राहुल गांधी इन चीजों का किस तरह सामना करते है व इन समस्याओं से कैसे निपटते है।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker