दिल्लीभारत

टीकाकरण: मध्यप्रदेश बना एक दिन में सबसे ज्यादा टीकाकरण करने वाला राज्य…जानिए कैसे…?

टीकाकरण की गति को तेज कर दिया गया है. केंद्र सरकार ने वैक्सीनेशन उत्पादन में से 75 फीसदी हिस्सा खुद खरीदने का फैसला किया है, जबकि 25 फीसदी टीका प्राइवेट अस्पतालों द्वारा खरीदा जा सकेगा। केंद्र सरकार अब टीकों को खरीदकर राज्य सरकार को खुद देगी।

टीकाकरण: मध्यप्रदेश बना एक दिन में सबसे ज्यादा टीकाकरण करने वाला राज्य…जानिए कैसे…?

नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सोमवार से वैक्सीनेशन अभियान की गति को तेज किया गया है. पहले ही दिन देश ने टीका लगाने का रिकॉर्ड बना लिया है. सरकार के आंकड़ों के अनुसार, अभी तक एक दिन में कोरोना वैक्सीन की 84 लाख से ज्यादा डोज लगाई जा चुकी हैं. टीकाकरण का रिकॉर्ड बनने पर प्रधानमंत्री मोदी ने खुशी जताते हुए वेलडन इंडिया कहा है।
केंद्र सरकार देश के हर नागरिकों को फ्री में टीका उपलब्ध करवा रही है. कुछ दिनों पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसके बारे में घोषणा की थी. अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के दिन से टीकाकरण की गति को तेज कर दिया गया है. केंद्र सरकार ने वैक्सीनेशन उत्पादन में से 75 फीसदी हिस्सा खुद खरीदने का फैसला किया है, जबकि 25 फीसदी टीका प्राइवेट अस्पतालों द्वारा खरीदा जा सकेगा.
केंद्र सरकार अब टीकों को खरीदकर राज्य सरकार को खुद देगी, जबकि पहले राज्यों को भी टीका खरीदने के लिए कहा गया था. सुबह से ही टीकाकरण अभियान काफी तेजी से चल रहा है. इसी वजह से 84 लाख वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी हैं. सरकार ने बताया कि अब तक कोविन ऐप के अनुसार, 84,07,664 वैक्सीन लग चुकी हैं।

यह भी पढें, Coronavirus vaccination: 80 लाख से ज्यादा लोगों का हुआ टीकाकरण, पीएम बोले ‘वेलडन इंडिया’

सभी राज्यों में सबसे ज्यादा टीकाकरण मध्य प्रदेश में किया गया. यहां 16 लाख से अधिक लोगों को कोविड रोधी टीके की खुराक दी गई. अकेले इंदौर जिले में 2.2 लाख टीके की खुराक लगाई गई. सोमवार को दिल्ली में हुए टीकाकरण से यह तीन गुना ज्यादा है.
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ‘मध्य प्रदेश ने आज 10 लाख लोगों को टीकाकरण का लक्ष्य रखा था लेकिन राज्य की क्षमता को देखते हुए केंद्र ने हमें पांच लाख अतिरिक्त खुराक देने की बात कही. इसके लिए मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रगुजार हूं. यह हमारे जनभागीदारी मॉडल की जीत है.’ बता दें इससे पहले 14 जून को राज्य में सबसे ज्यादा 4.9 लाख कोविड रोधी टीके की खुराक लगाई गई थी.

इंदौर के बाद सबसे ज्यादा 1.37 लाख खुराक भोपाल जिले में लगाई गई. उज्जैन में करीब एक लाख खुराक दी गई. ग्वालियर, जबलपुर और धार जैसे पांच अन्य जिलों में 50,000 से अधिक खुराक दी गई. मध्य प्रदेश ने सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश द्वारा किए गए टीकाकरण से दोगुनी संख्या में लोगों को वैक्सीनेट किया.

मध्य प्रदेश ने वैक्सीनेशन के लिए खास स्टेट लेवल कंट्रोल रूम बनाया था. इसके साथ ही 8,000 से अधिक टीकाकरण केंद्र भी शुरू किए गए थे. मुख्यमंत्री ने सोमवार को तीन जिलों दतिया, भोपाल और सीहोर के टीकाकरण केन्द्रों का दौरा किया. वह बीते एक हफ्ते से लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित करने के लिए वर्चुअल संवाद भी कर रहे हैं. राज्य में वैक्सीनेशन के मुद्दे पर अधिकारियों के साथ सीएम की अध्यक्षता में खूब बैठकें भी हुईं.सरकार ने सोमवार को वैक्सीनेशन सेटंर्स पर लोगों के लिए जलपान की व्यवस्था की. वैक्सीनेशन कराने आए लोगों के अनुभव रिकॉर्ड किए और सोशल मीडिया के माध्यम से इसका प्रचार किया. वैक्सीनेशन के लिए आने वाले लोगों का अधिकारियों द्वारा कई केंद्रों पर टीका लगाकर स्वागत किया गया. राज्य सरकार के सभी मंत्री भी अपने क्षेत्रों में थे ताकि ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों को
टीकाकरण के लिए उत्साहित किया जा सके.

सीएम ने भी टीका लेने वाले लोगों को शपथ दिलाई कि वह दूसरे लोगों को भी वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करेंगे. उन्होंने कुछ बच्चों को भी सम्मानित किया. इन बच्चों ने अपने बड़ों को वैक्सीनेशन के लिए मनाया था. इसके साथ ही वृद्धों और दिव्यांगों के लिए टीकाकरण की खास व्यवस्था की गई थी.  इसके साथ ही नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी सरीखे लोगों ने सोशल मीडिया पर जनता से टीकाकरण कराने की अपील की. राज्य सरकार द्वारा गांव, तहसील और जिला स्तर पर गठित क्राइसिस मैनेजमेंट कमिटियों ने भी वैक्सीनेशन में अहम भूमिका निभाई.

सीएम ने कहा कि यह मेगा अभियान आने वाले दिनों में भी जारी रहेगा क्योंकि टीकाकरण महामारी को हराने का सबसे अच्छा तरीका है. उन्होंने 1 जुलाई, 2 और 3 जुलाई को भी विशेष टीकाकरण अभियान की घोषणा की. सीएम ने कहा कि ‘आज की सफलता यह बता रही है कि टीकाकरण को लेकर लोगों के मन में कोई संदेह और झिझक नहीं है. मैंने आज दतिया जिले के एक अनुसूचित जाति बहुल गांव परसारी और सीहोर में एक अनुसूचित जनजाति बहुल गांव सिराली का दौरा किया, जहां लोगों ने पूरे उत्साह के साथ टीकाकरण अभियान में भाग लिया.’
मध्यप्रदेश अब तक कुल 1.66 करोड़ डोज लगाई जा चुकी है इसमें से 21 लाख सेकेंड डोज भी शामिल है. इंदौर और भोपाल जैसे जिलों पर कोविड की पहली और  दूसरी लहर का असर देखने को मिला.  हाालंकि इस बार एमपी में कोरोना की स्थिति इस महीने शुरूआत में ही नियंत्रित कर ली गई।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker