भारत

ठेकेदार की मौत मामले में ईश्वरप्पा को कांग्रेस ने बताया कमीशनखोर, बर्खास्तगी की मांग

नई दिल्ली, 12 अप्रैल ()। कांग्रेस ने कर्नाटक के ग्रामीण विकास मंत्री के एस ईश्वरप्पा पर भाजपा के कार्यकर्ता संतोष पाटिल से काम के बदले 40 प्रतिशत कमीशन मांगने से तंग आकर आत्महत्या करने के मामले की न्यायिक जांच करने और ईश्वरप्पा को बर्खाश्त कर तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की है।

कांग्रेस प्रवक्ता प्रोफेसर गौरव बल्लभ ने मंगलवार को प्रेसवार्ता कर कहा कि भाजपा के कार्यकर्ता संतोष पाटिल ने आत्महत्या से पहले लिखा कि उनकी मृत्यु के लिए प्रदेश के ग्रामीण विकास मंत्री के एस ईश्वरप्पा जिम्मेदार हैं और उसे मेरी मौत के बदले कड़ी से कड़ी सजा दी जानी चाहिए। उन्होंने घटना के लिए जिम्मेदार मंत्री को बर्खास्त कर उसे तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की।

प्रो. गौरव वल्लभ ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि, खूब खाऊंगा और खूब खाने दूंगा तो आपने सुना होगा, क्योंकि वो तो पिछले 8 साल से चल रहा है। पर खूब खाऊंगा और मरने दूंगा, ये एक नया भारतीय जनता पार्टी का स्लोगन है और इस स्लोगन के तहत आज एक ऐसी घटना ने देश विचलित कर दिया है।

उन्होंने कहा कि ये पहला वाक्य है जब एक भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता कह रहा है, कि जो कर्नाटक में मंत्री है, केएस ईश्वरप्पा, जो कि ग्रामीण विकास और पंचायती राज के मंत्री हैं, वो मेरी मृत्यु के प्रत्यक्ष रुप से, सीधे रुप से जिम्मेदार हैं। तो पहली तो सीधे जिम्मेदारी। उन्हें मैक्सिमम पनिशमेंट देना चाहिए।

वहीं इस मसले पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कर्नाटक के मुख्यमंत्री बोम्मई की इस मामले में संलिप्तता है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा, कर्नाटक की 40 फीसदी कमीशन वाली भाजपा सरकार ने अपने ही एक कार्यकर्ता की जान ले ली। पीड़ित ने प्रधानमंत्री से गुहार लगाई थी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

पीटीके/एएनएम