भारत

परिवार का अन्य सदस्य भी आपके ट्रेन के टिकट पर कर सकेगा यात्रा, जाने क्या है नियम

परिवार के सदस्य इस तरह कर सकेंगे आपके टिकट पर यात्रा-पहले नजदीकी रेलवे रिजर्वेशन काउंटर पर जाएं, काउंटर पर आपको टिकट की कॉपी दिखाएं, और अपनी आईडी के साथ-साथ अपने उस परिवार के उस सदस्य...

परिवार का अन्य सदस्य भी आपके ट्रेन के टिकट पर कर सकेगा यात्रा, जाने क्या है नियम

जैसा कि सभी जानते हैं कि इंडियन रेलवे हमारे देश की लाइफलाइन है. हर दिन करोड़ों यात्री इंडियन रेलवे की मदद से ही समय पर अपने गंतव्य स्थान तक पहुंचते हैं. बड़े शहरों में ट्रेन का सफर उनकी दिनचर्या का जैसे हिस्सा ही होता है। आप भी किसी न किसी काम से ट्रेन में सफर करते ही होंगे. लेकिन कई बार ऐसा भी हो जाता है कि आपने अपने नाम से किसी ट्रेन में टिकट बुक की है लेकिन कुछ समय बाद किसी कारणवश आप यात्रा करने में असमर्थ हो गए हो। ऐसे में आप बहुत बुरी तरह से फंस जाते हैं, क्योंकि यात्रा करना और काम दोनों बहुत जरूरी हो जाते है।

यह भी पढ़े, रेलवे पैसेंजरों को सस्‍ते किराए में एसी क्‍लास में कराएगा सफर, जानें क्या है योजना

यदि यात्रा पर जाने की तारीख से ठीक पहले किसी के सामने ऐसी समस्या आ जाती है तो आमतौर पर वह अपनी टिकट कैंसिल कराकर किसी अन्य परिजन के नाम से नई टिकट बुक करते हैं. लेकिन यहां एक दिक्कत और आती है कि नई टिकट बुक करने के लिए आपके परिजन को कंफर्म टिकट नहीं मिल पाती।

परिवार के किसी अन्य सदस्य के नाम कैसे ट्रांसफर हो सकती है टिकट:

भारतीय रेल ऐसी परिस्थितियों से बचने के लिए अपने यात्रियों को एक बेहद ही शानदार सुविधा उपलब्ध करवाने जा रह है लेकिन इसके बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है. नियमों के मुताबिक यदि आप किसी वजह से यात्रा करने में असमर्थ हैं तो आप टिकट को अपने किसी परिजन के नाम पर भी ट्रांसफर करा सकते हैं।

इसके लिए आपको ट्रेन के प्रस्थान से 24 घंटे पहले नजदीकी रेलवे रिजर्वेशन काउंटर पर जाएं, काउंटर पर आपको टिकट की कॉपी दिखाएं, और अपनी आईडी के साथ-साथ अपने उस परिवार के उस सदस्य की भी आईडी भी दिखाएं, जिसके नाम पर टिकट ट्रांसफर करनी है. इसके बाद टिकट और सभी दस्तावेजों के साथ आपको टिकट ट्रांसफर करने के लिए आवेदन करना होता है. जिसके बाद रेलवे रिजर्वेशन सेंटर का अधिकारी आपकी टिकट को आपके किसी भी परिजन के नाम पर ट्रांसफर कर देंगे।

शादी/पार्टी में जाने वालों को भी मिलती है सुविधा:

टिकट ट्रांसफर कराते समय आपको इस बात का खास ध्यान रखना होगा कि आप अपनी टिकट सिर्फ अपने परिवार वालों जैसे- माता, पिता, भाई, बहन, पुत्र, पुत्री, पति, पत्नी के नाम पर ही ट्रांसफर करा सकते हैं.
यदि आप अपने किसी दोस्त के नाम टिकट ट्रांसफर करवाना चाहे तो ऐसा संभव नहीं है. परिजनों के अलावा भारतीय रेलवे किसी एजुकेशनल इंस्टीट्यूट के छात्रों को भी टिकट ट्रांसफर करने की सुविधा प्रदान करता है. ऐसी स्थिति में इंस्टीट्यूट के प्रमुख को लेटरहेड पर जरूरी दस्तावेजों के साथ लिखित में ट्रेन के प्रस्थान से 48 घंटे पहले आवेदन करना होता है. इसके साथ ही यदि किसी शादी या पार्टी में जाने वाले लोगों के सामने भी ऐसी परिस्थिति आ जाए तो यात्रा और शादी/पार्टी के आयोजक को 48 घंटे पहले जरूरी दस्तावेजों के साथ आवेदन करना होता है. बताते चलें कि टिकट ट्रांसफर कराने की सुविधा काउंटर टिकट के साथ-साथ ऑनलाइन टिकट पर भी दी जाती है।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker