भारत

बाघ-बघिन का निवाला बनने से बचने के लिए पेड़ पर 8 घण्टे बैठा रहा युवक, दो दोस्तों का हुआ शिकार

बाघ के हमले का मामला सामने आया है। दो युवकों को तो बाघ ने अपना निवाला बना लिया, लेकिन तीसरे युवक ने किसी तरह पेड़ पर चढ़कर अपनी जान बचाई।

बाघ-बघिन का निवाला बनने से बचने के लिए पेड़ पर 8 घण्टे बैठा रहा युवक, दो दोस्तों का हुआ शिकार

बरेली. पीलीभीत जिले में तीन युवकों पर बाघ के हमले का मामला सामने आया है। दो युवकों को तो बाघ ने अपना निवाला बना लिया, लेकिन तीसरे युवक ने किसी तरह पेड़ पर चढ़कर अपनी जान बचाई। बताया जा रहा है कि तीनों युवक रविवार देर शाम बाइक पर सवार होकर घर लौट रहे थे। इसी बीच उन्होंने बाघ-बाघिन का जोड़ा देखा तो घबराहट में बाइक गिर गई और बाघ ने हमला कर दिया। पूरी रात पेड़ पर बिताकर अपनी जान बचाने वाले युवक ने सोमवार सुबह इसकी जानकारी पुलिस को दी। घटना की सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस और टाइगर रिजर्व के अधिकारियों ने मामले में जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़े, विश्व विजेता क्रिकेटर यशपाल शर्मा का हार्ट अटैक से निधन, कपिल देव को सदमा

विकास ने बताया कि जंगल में घुसने से पहले वन कर्मियों ने उन्हें चेताया था और बाघ के आस-पास होने की बात की कही थी, लेकिन वे नहीं माने और गाड़ी आगे बढ़ा दी. विकास ने बताया कि जब वह जंगल में पहुंचे तो दो बाघ सड़क किनारे घात लगाए बैठे थे. बदहवास विकास ने बताया कि बाइक सोनू चला रहा था. बीच में कंधईलाल और सबसे पीछे वह बैठा था. तभी एक बाघ ने पीछे से हमला कर दिया. चूंकि विकास ने हेलमेट लगाया हुआ था, लिहाजा उसका पंजा हेलमेट पर लगा और बाइक अनियंत्रित होकर गिर गई. इस बीच एक बाघ ने सोनू पर हमला कर दिया और उसे मौत के घाट उतार दिया. उधर, कंधई पेड़ पर चढ़ने लगा. वह करीब 6 फ़ीट चढ़ भी चुका था, लेकिन बाघ ने छलांग लगाकर उसे भी दबोच लिया और मार डाला।

विकास के मुताबिक दोनों को मौत के घाट उतारने के बाद दूसरे बाघ ने उस पर हमला करने का प्रयास किया, लेकिन जब तक बाघ हमला कर पाता वह पेड़ पर चढ़ चुका था. विकास ने बताया कि बाघ कंधई के शव को जंगल के अंदर खींचते हुए ले गए, जबकि सोनू का शव जिस पेड़ पर वह चढ़ा था उसके नीचे पड़ा रहा. जंगल के अंदर कंधई के शव को खाने के बाद दोनों बाघ-बाघिन फिर से उसी पेड़ के नीचे आ गए जिस पर वह बैठा था. पूरे आठ घंटे तक दोनों बाघ वहीं चहलकदमी करते रहे और तड़के साढ़े तीन बजे जंगल के अंदर गए।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker