भारत

मोदी ने भाजपा सांसदों को सोशल मीडिया पर मौजूदगी बढ़ाने की सलाह दी

नई दिल्ली, 12 अप्रैल ()। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विभिन्न विषयों पर पार्टी सांसदों की सोशल मीडिया गतिविधियों की समीक्षा करने के बाद उन्हें इन प्लेटफॉर्म पर अपनी मौजूदगी बढ़ाने की सलाह दी है।

हाल ही में समाप्त हुए बजट सत्र के दौरान विभिन्न राज्यों के भाजपा सांसदों के साथ बातचीत करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अधिक दिखने और सक्रिय बने रहने के लिए कहा।

प्रधानमंत्री मोदी नियमित रूप से संसद सत्र के दौरान विभिन्न राज्यों के भाजपा सांसदों के साथ बैठकें करते हैं।

सूत्रों ने बताया कि इस तरह की बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री ने पार्टी सांसदों की सोशल मीडिया गतिविधियों पर चर्चा की और उन्हें अपनी उपस्थिति बढ़ाने की सलाह दी।

पार्टी के एक अंदरूनी सूत्र ने कहा कि एक दर्जन से अधिक विषयों पर भाजपा सांसदों की सोशल मीडिया गतिविधियों की समीक्षा की गई और यह पाया गया कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा निर्धारित सभी मापदंडों पर कोई भी सक्रिय नहीं था।

उन्होंने कहा, एक दर्जन से अधिक विषय थे और इसकी समीक्षा की गई कि क्या सांसदों ने सभी विषयों पर ट्वीट किया था या नहीं। आश्चर्यजनक रूप से यह पाया गया कि अधिकांश सांसद सूची में उल्लिखित सभी विषयों पर ट्वीट करने में विफल रहे।

पता चला है कि प्रधानमंत्री द्वारा चिन्हित विषयों के बारे में सांसदों से पूछा गया कि उन्होंने ट्वीट किया था या नहीं।

पार्टी के एक अंदरूनी सूत्र ने कहा, कुछ को एक लिफाफे में रिपोर्ट सौंपी गई थी, जबकि कुछ वरिष्ठ नेताओं को प्रधानमंत्री ने विशेष मुद्दों या विषयों पर ट्वीट करने के लिए इंगित किया। एक वरिष्ठ सांसद को प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने एक-दो मुद्दों पर ट्वीट नहीं किया था। प्रधानमंत्री ने उन्हें एक विशिष्ट विषय के बारे में भी बताया, जिस पर ट्वीट करने में वे विफल रहे।

सूत्रों ने बताया कि जिन विषयों पर सांसदों के ट्वीट की समीक्षा की गई उनमें ऑपरेशन गंगा, हाल के विधानसभा चुनावों में पार्टी की जीत, 12 से 14 साल तक वैक्सीन ड्राइव, विपक्ष का मुकाबला, विपक्षी राजनीति का पदार्फाश, सकारात्मक मीडिया कवरेज, पॉजिटिव ऑप-एड/कॉलम, बीजेपी पर अपडेट, परीक्षा पे चर्चा का प्रचार, मन की बात, हैशटैग संबंधित सामग्री और अन्य शामिल हैं।

भाजपा के एक सांसद ने कहा, प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों से कहा कि वे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अधिक दिखाई दें और लोगों को सरकारी कार्यो के बारे में बताएं।

एसजीके