Health and Fitness

योगासन: यह तीन खास योगासन बनाएंगे आपके तन मन को स्वस्थ

योगासन: इस आसन को करने से पेट से सम्बंधित रोग दूर होते है जैसे: एसिडिटी , कॉस्ट्रयूपेशन , इनडाइजेशन जैसे रोगों में आराम मिलता है।

योगासन: आजकल के दौर में लोग अपने कामो में इतने ज्यादा व्यस्त हो गए है।

कि उन्हें अपने स्वास्थ का ख्याल रखने तक का समय ही नहीं है।

स्वास्थ्य को इस तरह से नजरअंदाज करनर के कारण कई वे अनचाही मुसीबतों को अपने शरीर पर हावी होने का मौका दे देते है।

आज हम आपको ऐसी चीज बताने जा रहे है जिससे कि आपका समय भी ज्यादा वेस्ट भी नही होगा।

और आप अपना स्वास्थ का अच्छे से ख्याल भी रख पाएंगे। वह है “योगासन”।

नियमित रूप से योगासन करने से हमारा शरीर चुस्त और तन दुरुस्त रहता है।

योगासन करने से हमारा तन मन और दिमाग सब स्वस्थ रहते है।

नियमित रूप से योगासन करने से किसी भी तरह की कोई बीमारी नही होती, जैसे:

अनिंद्रा, श्वास में तकलीफ, मोटापा , थकान , ये सभी बीमारिया दूर रहती है।

तो चलिए आज हम आपको तीन ऐसे खास योगासन के बारे में बताने जा रहे है जो आपको कई तरह के फायदे पहुंचाएंगे।

यह भी पढ़ें, कुदरती तरीके से बालों को काला करे आईये जाने कैसे?

ताड़ासन:

इस आसन को करने शारीरक लंबाई बढ़ती है, मोटापा कम होता है।

सबसे पहले सीधे खड़े होकर अपने दोनों हाथों को ऊपर की तरफ ले जाये और फिंगर्स को आपस मे लॉक लगाकर हाथों को ऊपर की तरफ मोड़े।

यानी अपनी हथेलियों को आसमान की तरफ रखे गर्दन को एकदम सीधा रखें ।

यही ताड़ासन है। इस आसन को करने शरीर मजबूत होता है ।

सभी प्रकार के रोग दूर होते है अगर आपको पाईल्स है तो उसमें आराम आता है।

भुजंगासन:

योगासन: यह तीन खास योगासन बनाएंगे आपके तन मन को स्वस्थ
Image Resource: Zotezo

सर्प के समान सबसे पहले आप जमीन पर उल्टे लेट जाए।

कोहनियों को मोड़ते हुए अपना शरीर का आधा हिस्सा ऊपर की तरफ उठाए।

हथेलियों पर दबाव बनाते हुए सिर को आकाश की ओर उठाये।

यह ही भुजंगासन है ।

इस आसन को करने से शरीर का लचीलापन बढ़ता है, पेट कम होता है।

फेफड़े मजबूत होते है। जिन लोगी को खाँसी और फेफड़ो से संबंधित बीमारिया होती है,

उन्हें इस आसन से काफी आराम मिलता है।

उष्ट्रासन:

योगासन: यह तीन खास योगासन बनाएंगे आपके तन मन को स्वस्थ
Image Resource: Punjab Kesri

यह आसन पेट से संबंधित बीमारिया और एसिडिटी को दूर करता है ।

इस आसन में सबसे पहले वज्रासन की स्थिति में बैठ जाये।

अब घुटनो के बल खड़े होकर अपनी हथेलियों को एक एक कर पैरो की पगथलियो पर एक एक करके रखे।

अपना शरीर ढीला छोड़ दें और पेट को आसमान की तरफ उठा कर रखे।

इसे ही उष्ट्रासन कहते है।

इस आसन को करने से पेट से सम्बंधित रोग दूर होते है जैसे:

एसिडिटी , कॉस्ट्रयूपेशन , इनडाइजेशन जैसे रोगों में आराम मिलता है।

यह आसन ऊँटो की तरह दिखता है इसलिए इस आसन को उष्ट्रासन कहते है।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker