भारत

लिफ्ट में 5 घण्टे फंसे रहने के कारण प्राइवेट स्कूल के लैब अटेंडेंट की मौत

लिफ्ट में पांच घंटे तक फंसे रहने से स्कूल के ही लैब अटेंडेंट की मौत हो गई। हादसा शुक्रवार दोपहर तीन बजे का है और उसका शव रात आठ बजे गैस कटर से लिफ्ट का दरवाजा काटकर निकाला जा सका।

लिफ्ट में 5 घण्टे फंसे रहने के कारण प्राइवेट स्कूल के लैब अटेंडेंट की मौत

पानीपत. पानीपत के सेक्टर 11-12 स्थित एसडीवीएम सीनियर विंग स्कूल की लिफ्ट में पांच घंटे तक फंसे रहने से स्कूल के ही लैब अटेंडेंट की मौत हो गई। हादसा शुक्रवार दोपहर तीन बजे का है और उसका शव रात आठ बजे गैस कटर से लिफ्ट का दरवाजा काटकर निकाला जा सका। परिजनों का आरोप है कि शाम छह बजे तक मैनेजमेंट की ओर से कोई भी नजर नहीं आया और साढ़े छह बजे मैकेनिक बुलाए गए। परिजनों ने चार घंटे तक हंगामा किया और स्कूल मैनेजमेंट पर कार्रवाई की मांग की है।

यह भी पढ़े, रेलवे पैसेंजरों को सस्‍ते किराए में एसी क्‍लास में कराएगा सफर, जानें क्या है योजना

अंकित गुप्ता 2011 से स्कूल में लैब अटेंडेंट के रूप में कार्यरत था. अंकित के जीजा रविंद्र जैन ने बताया कि रेणुका सिंगला से पता चलता है कि अंकित के साथ कोई हादसा हो गया है. जैसे ही हम स्कूल पहुंचे तो देखते हैं कि अंकित लिफ्ट में फंसा हुआ है और उसकी मौत हो चुकी है. रविंद्र जैन ने बताया कि अंकित बहुत ही अच्‍छा लड़का था और इतने घंटे लिफ्ट में फंसे होने से उसका सारा शरीर काला हो चुका है. उन्होंने इस पूरे मामले की जांच की मांग की. उन्होंने कहा कि इस हादसे के पीछे साजिश भी हो सकती है.

शुक्रवार की दोपहर 3:58 बजे जूनियर विंग की एडमिनिस्ट्रेटर रेणुका सिंगला ने कॉल कर अंकित के लिफ्ट में फंसने की सूचना दी। वह बहन मनीषा गुप्ता और जीजा रविंद्र जैन के साथ स्कूल पहुंचे। दूसरी मंजिल पर अंकित लिफ्ट के गेट में फंसा था। उसकी गर्दन ऊपर और धड़ लिफ्ट में फंसा था। उस समय स्कूल के मैनेजमेंट के पदाधिकारी और स्कूल की प्रिंसिपल मौके पर ही मौजूद थे।

आरोप है कि उन्होंने मैनेजमेंट के हाथ जोड़कर जल्द से जल्द मैकेनिक बुलाकर भाई को बचाने की विनती की लेकिन मैनेजमेंट ने कुछ नहीं किया। हंगामा करने पर शाम साढ़े छह बजे दिल्ली से मैकेनिक बुलाए गए, जिन्होंने रात करीब आठ बजे गैस कटर से लिफ्ट का दरवाजा काटकर शव को बाहर निकाला।

परिजन बोले: बच्चा नहीं था अंकित, जिसे चलना नहीं आता था, हत्या की गई है

अंकित की बहन मनीषा गुप्ता ने आरोप लगाया कि यह सोची समझी साजिश हो सकती है। उसके भाई की हत्या हुई है। मैनेजमेंट का कोई पदाधिकारी सामने नहीं आ रहा है। उन्होंने सीसीटीवी फुटेज भी नहीं दिखाई। भाई पिछले 11 साल से स्कूल में काम करता था। वह बच्चा नहीं था कि उसे चलना या लिफ्ट में चढ़ना नहीं आता था।

सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई थी, रात करीब आठ बजे शव को लिफ्ट से निकालकर सामान्य अस्पताल के शव गृह में रखवा दिया है। शनिवार को शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। परिजनों की ओर से अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है, शिकायत मिलने के बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker