स्वीडन में कुरान जलाने पर भड़के दंगे, सड़कों पर उतरे सैकड़ों लोग।
स्वीडन में कुरान जलाने पर भड़का दंगा, सड़कों पर उतरे सैकड़ों लोग।

स्वीडन में कुरान जलाने पर भड़के दंगे, सड़कों पर उतरे सैकड़ों लोग

- शान्ति का देश कहे जाने वाले स्वीडन में कुरान जलाने की घटना के बाद दंगे भड़क गए हैं। जानकारी के अनुसार दक्षिणी स्वीडन के माल्मो शहर में सैकड़ों लोग सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने सड़क पर खड़ी कई कारों में आग लगा दी और पुलिस बल पर भी पथराव किया।

इसके बाद पुलिस को हिंसक भीड़ को काबू करने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े। पुलिस ने कई प्रदर्शनकारियों को हिरासत में भी लिया हैं। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार माल्मो शहर में कुरान की प्रति जलाई जाने के बाद ये दंगा शुरू हुआ।

पुलिस के अनुसार, शुक्रवार शाम को अचानक सड़कों पर सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा हो गई। ये भीड़ अचानक उग्र हो गई और पत्थरबाजी और आगजनी शुरू कर दी। इन्होंने सड़क किनारे खड़ी गाड़ियों के टायरों में आग लगा दी, जिससे पूरे इलाके में धुंआ फैल गया। पत्थरबाजी में कई लोगों को चोटें आई हैं। पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद स्थिति को काबू किया।

बताया जा रहा हैं कि, स्वीडन के दक्षिणपंथी नेता रैसमस पालुदन की गिरफ्तारी के विरोध में उनके समर्थकों ने कुरान की प्रतियां जला दी थी। इसी स्थान पर बाद मे इस घटना के विरोध में विरोध-प्रदर्शन शुरू हुआ, उसके बाद स्थिति तनावपूर्ण बन गई और पूरे स्वीडन दंगे भड़क गये।

दरअसल, स्वीडन की राष्ट्रवादी पार्टी स्ट्रैम कुर्स के नेता रैसमस पालुदन को सभा की इजाजत ना मिलने के बाद उन्हें स्वीडन के बोर्डर पर ही रोक लिया गया था। जब उन्होंने जबरदस्ती शहर में घुसने की कोशिश की तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद उनके कुछ समर्थकों ने कुरान की प्रतियां जला दी थी। इस घटना के बाद ये दंगा भड़क गया।

रैसमस पालुदन स्वीडन की राष्ट्रवादी पार्टी स्ट्रैम कुर्स के शीर्ष नेता हैं। रैसमस पालुदन ने 2017 में अति राष्ट्रवादी पार्टी स्ट्रैम कुर्स की स्थापना की। कई वीडियोज में उन्हें मुस्लिम विरोधी बातें करते या कुरान का अपमान करते देखा जा सकता है। रेसमस इसे अपनी अभिव्यक्ति की आज़ादी बताकर डिफेंड करते रहे हैं। शुक्रवार को स्वीडन में उनके प्रवेश पर दो साल का प्रतिबंध लगा दिया गया है।

More Stories
police
‘कौन सुनेगा किसको सुनाएं, खाकी वर्दी में हम इंसान हैं’