महाराष्ट्र में भाजपा को बड़ा झटका, दिग्गज नेता एकनाथ खडसे ने पार्टी छोड़ी
महाराष्ट्र में भाजपा को बड़ा झटका, दिग्गज नेता एकनाथ खडसे ने पार्टी छोड़ी

महाराष्ट्र में भाजपा को बड़ा झटका, दिग्गज नेता एकनाथ खडसे ने पार्टी छोड़ी

- महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी को बड़ा झटका लगा है। भाजपा के दिग्गज नेता और पूर्व मंत्री एकनाथ खडसे शुक्रवार को एनसीपी में शामिल होने जा रहे हैं। भाजपा ने भी उनके इस्तीफे की पुष्टि कर दी है। भारतीय जनता पार्टी ने खडसे को उनके भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी हैं।

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री जयंत पाटिल ने ये दावा किया है कि शुक्रवार को एकनाथ खडसे एनसीपी में शामिल होने जा रहे हैं। शुक्रवार दोपहर दो बजे खडसे एनसीपी की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं।

पार्टी छोड़ने के फैसले पर एकनाथ खडसे ने कहा कि वो 23 तारीख को एनसीपी ज्वाइन करने वाले हैं। उन्होने कहा कि “जो मेरे खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे, उसमें कुछ साबित नहीं हुआ। मुझे एक नेता के द्वारा परेशान किया गया, लेकिन भारतीय जनता पार्टी में मुझे न्याय नहीं मिला।“
माना जा रहा है कि एनसीपी नेताओं और एकनाथ खडसे के बीच पिछले कुछ दिनों से बातचीत जारी थी। एकनाथ खडसे उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना सरकार में मंत्री पद भी संभाल सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, एकनाथ खडसे की नज़र कृषि मंत्रालय पर है, जो कि अभी शिवसेना के पास ही है।

पिछले लंबे समय से यह कयास लगाया जा रहा था कि खडसे बीजेपी छोड़ सकते हैं। क्योंकि पार्टी में उन्हें साइडलाइन किया जा रहा है। रविवार को ये खबर सामने आई थी कि खडसे ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है, हालांकि बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने उस समय इस प्रकार के दावों को गलत बताया था और कहा था कि वो ऐसा नहीं करने वाले।
इसी बीच एनसीपी नेता शरद पवार का एक बयान सामने आया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि एकनाथ खडसे का महाराष्ट्र में भाजपा को मजबूत करने में अहम योगदान रहा है। लेकिन अब उन्हें भाजपा में किनारे किया जा रहा है, जो सही नहीं है।

गौरतलब हैं कि, 2015 में एकनाथ खडसे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे, इसके बाद खडसे ने देवेंद्र फडणवीस की सरकार से इस्तीफा दे दिया था। उस के बाद से खडसे का राजनीतिक करियर ढलान पर रहा है। खडसे के समर्थकों का मानना है कि देवेंद्र फडणवीस के कारण ही उन्हें किनारे किया जा रहा है।

इन सबके बाद 2019 के महाराष्ट्र में हुए विधानसभा चुनाव में एकनाथ खडसे को पार्टी ने टिकट नहीं दिया था, जिसके बाद उन्होंने देवेंद्र फडणवीस पर सीधा हमला बोलना शुरू कर दिया था। हालांकि, इन चुनावों में उनकी बेटी रोहिणी को टिकट मिला था, जो कि चुनाव हार गई थीं। इन सब के अलावा खडसे के इलाके जलगांव में अब गिरीश महाजन को पार्टी महत्व दे रही है जो कि देवेंद्र फडणवीस के करीबी माने जाते हैं। इस कारण से भी एकनाथ खडसे पार्टी से नाराज थे।

More Stories
केरल विमान हादसे में मरने वालों की संख्या 18 पहुंची, दो टुकड़ों में टूटा था विमान