भारत

Farmers Protest: किसानों का दिल्ली को 5 तरफ से ब्लॉक करने का ऐलान, बोले ओपन जेल नहीं जाएंगे

- केंद्र सरकार द्वारा बनाएँ गए तीन नए कृषि कानूनों (New Agriculture Law 2020) के खिलाफ पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान और यूपी के किसानों का भारी विरोध प्रदर्शन (Farmers Protest) जारी है। दिल्ली में किसान प्रदर्शन (Farmers Protest) पर अड़े हुए हैं। अब नए कृषि क़ानूनों का दिल्ली में विरोध कर रहे किसानों ने बड़ा ऐलान किया है। किसान नेताओं द्वारा सरकार को चेतावनी दी गई है कि अगर अगर सरकार ने उनकी सभी मांगें नहीं मानी, तो दिल्ली के मुख्य राजमार्ग (Highways) जाम करके शहर में आवाजाही पूरी तरह से बंद कर देंगे। गाजियाबाद, गुरुग्राम और फरीदाबाद को दिल्ली से जोड़ने वाली हाइवे को किसानों द्वारा ब्लॉक करने की चेतावनी से सरकार और दिल्ली पुलिस महकमे में खलबली मच गई है। सरकार ने अपनी तरफ एक बार फिर से किसानों को बातचीत का प्रस्ताव भेजा है।

पिछले 4 दिन से किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं, और नए कृषि कानूनों (New Agriculture Law 2020) के खिलाफ प्रदर्शन (Farmers Protest) कर रहे हैं। किसानों की मांग हैं कि उन्हें जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने की इजाजत दी जाए। किसान यूनियन ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार की ओर से बुराड़ी में प्रदर्शन करने के प्रस्ताव को नामंजूर किया। किसान यूनियन ने प्रैस कोन्फ्रेंस में कहा कि हम बिना शर्त सरकार से बातचीत करना चाहते हैं। किसानों ने बुराड़ी को ओपन जेल करार देते हुए कहा कि ये आंदोलन की जगह नहीं है। इसके साथ ही किसानों ने चेतावनी देते हुए कहा कि, हमारे पास पर्याप्त राशन है और 4 महीने तक हम रोड पर बैठ सकते हैं। भारतीय किसान यूनियन क्रांतिकारी के अध्यक्ष सुरजीत सिंह फूल ने कहा कि दिल्ली में आने वाली पांच सड़कों को हम जाम कर देंगे। हम 5 प्वाइंट पर धरना देंगे। किसानों ने प्रदर्शन के लिए बुराड़ी जाने से मना कर दिया तो देर रात बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के घर पर करीब 2 घंटे तक हाई लेवल बैठक चली।

 

<blockquote class=”twitter-tweet”><p lang=”en” dir=”ltr”>Instead of going to open jail in Burari, we&#39;ve decided that we will gherao Delhi by blocking 5 main entry points to Delhi. We&#39;ve got 4 months ration with us, so nothing to worry. Our Operations Committee will decide everything: Surjeet S Phul, President, BKU Krantikari (Punjab) <a href=”https://t.co/aH5xm26WAi”>https://t.co/aH5xm26WAi</a> <a href=”https://t.co/2L0yL7vVmf”>pic.twitter.com/2L0yL7vVmf</a></p>&mdash; ANI (@ANI) <a href=”https://twitter.com/ANI/status/1333014100956250112?ref_src=twsrc%5Etfw”>November 29, 2020</a></blockquote> <script async src=”https://platform.twitter.com/widgets.js” charset=”utf-8″></script>

किसानों ने किए ये तीन ऐलान
बुराड़ी में प्रदर्शन करने से इंकार: किसान यूनियन ने बुराड़ी में प्रदर्शन करने के सरकार के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है और जंतर-मंतर पर धरना देने की अनुमति मांगी है। सरकार ने किसानों के सामने यह शर्त रखी थी कि किसान हाइवे खाली कर बुराड़ी जाएं। किसान नेताओं इस शर्त को अपमानजनक बताया हैं। किसान नेताओं का कहना हैं कि वो बुराड़ी मैदान में नहीं जाएंगे, क्योंकि वह ओपन जेल कि तरह है।

दिल्ली जाने वाले 5 मैन पॉइंट ब्लॉक करने का ऐलान: किसान अब 5 मैन प्वाइंट से राजधानी दिल्ली का घेराव करेंगे। किसान नेताओं ने कहा, ‘हम ओपन जेल में जाने की बजाय सोनीपत, रोहतक के बहत्तर गढ़, जयपुर से दिल्ली हाइवे, मथुरा-आगरा से दिल्ली हाइवे, गाजियाबाद से आने वाला हाइवे जाम करेंगे। 5 प्वाइंट पर हम धरना देक, दिल्ली की घेराबंदी करेंगे। हम लंबी लड़ाई लड़ने की तैयारी करके आए हैं।’

किसानों के मंच से किसी राजनीतिक दल को भाषण देने की इजाजत नहीं: इसके लिए किसानों ने एक कमेटी बनाई है। किसी भी राजनीतिक दल को स्टेज पर बोलने की इजाजत नहीं है। कांग्रेस, आप या कोई अन्य राजनीतिक दल के लोग किसानों के मंच पर स्पीकर के तौर पर नहीं बोलेंगे। इनके अलावा दूसरे संगठनों के जो संचालन कमेटी के तय नियमों को मानेंगे, उन्हें ही बोलने की इजाजत दी जाएगी।

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker