भारत

चीन से बातचीत कर जलते है तो पाकिस्तान से क्यो नही : फारूक अब्दुल्ला

जोधपुर। ‘भारत का सबसे बड़ा दुश्मन तो चीन है। अगर उससे की जा रही है तो पाकिस्तान से क्यों नहीं? सरकारों को पाकिस्तान से बात करके शांति कायम करनी चाहिए जिससे दोनों देशों की आवाम आपस में मिल सके, एक दूसरे मुल्कों में शादी विवाह कर सके, आसानी से आ जा सके, जिससे कि शांति कायम हो।’ ये कहना है जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला का।

वे एक कार्यक्रम में शिरकत करने जोधपुर आये थे। जहा मीडिया से बातचीत में उन्होंने ताजा हालातो पर चिंता जताते हुए कहा कि मुस्लिमों पर हमले हो रहे हैं, मस्जिद तोड़ी जा रही है। अब तो हमें भी डर लगने लगा है हमारा क्या होगा।

जोधपुर में बिश्नोई महासभा के धन्यवाद सभा में शिरकत करने आए जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई से हुई मुलाकात को याद करते हुए कहा कि जब मैने अटल जी से इस बारे में कहा तो उन्होंने मेरी बात मानी और नवाज शरीफ ने भी उनकी बात मान गए थे। उन्होंने वाजपेई जी को कहा था कि पाकिस्तान से जाकर मिले भी थे। वर्तमान में भी ऐसी ही जरूरत है। चिंता जाहिर करते हुए अब्दुला ने कहा कि दोनों ही देशों की दुश्मनी ने हिंदू और मुस्लिमों को अलग कर दिया है ।ऐसे हालात भारत और पाकिस्तान में ही नहीं है , पूरी दुनिया में हो चुके हैं ।अंग्रेज भी डरने लगे हैं कि हिंदू और मुस्लिमों में बढ़ रही दूरियां और दुश्मनी दुनिया को बड़ा नुकसान नहीं हो जाए।

फारूक अबदुल्ला विश्नोई महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष देवेंद्र बुड़िया की जोधपुर में रखी गयी धन्यवाद सभा के आयोजन में शिकरत करने आये थे , जहां मंच पर वे प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत के साथ बैठे नजर आए वही इस कार्यक्रम में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत भी उपस्थित थे। इसके अलावा भी विश्नोई संप्रदाय से जुड़े कई राजनेता व जनप्रतिनिधि भी इस आयोजन में शिरकत करने पहुंचे थे।

Niharika Times We would like to show you notifications for the latest news and updates.
Dismiss
Allow Notifications