भारत

किसान महापंचायत: डिवाइड एंड रूल’ करके हम पर अंग्रेजो की तरह कोई भी राज नहीं कर सकता, किसानों ने दिखाई एकता, योगी सरकार पर जमकर बोला हमला

किसान अलग अलग धर्मों के बावजूद एक हैं। कोई भी हमको अंग्रेजों की तरह ‘डिवाइड एंड रूल’ करके हम पर राज नहीं कर सकता। किसान एकता जिंदाबाद।’ बताते चलें,

किसान महापंचायत:

नई दिल्ली. बॉलीवुड एक्टर कमाल आर. खान उर्फ केआरके सोशल मीडिया पर अपनी बेबाक राय रखने के लिए जाने जाते हैं। ताजा ट्वीट में केआरके ने मुजफ्फरनगर में हुई किसानों की महापंचायत में राकेश टिकैत द्वारा लगाए गए नारों का जिक्र करते हुए यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा है। कटाक्ष करते हुए केआरके ने लिखा, ‘आज सभी किसानों ने मुजफ्फरनगर की महापंचायत में अल्लाह हू अकबर के नारे लगवाकर योगी के मंसूबों पर पानी फेर दिया।’

यह भी पढ़े, किसानों में भाजपा लेकर भारी नाराजगी, गहलोत ने ट्वीट कर कहा ये…

केआरके ने एक और पोस्ट की जिसमें उन्होंने कहा-‘हम सभी किसान अलग अलग धर्मों के बावजूद एक हैं। कोई भी हमको अंग्रेजों की तरह ‘डिवाइड एंड रूल’ करके हम पर राज नहीं कर सकता। किसान एकता जिंदाबाद।’ बताते चलें, मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत के दौरान राकेश टिकैत ने योगी सरकार पर जमकर हमला बोला। वहीं, केंद्र सरकार पर भी कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि जब तक बिल की वापसी नहीं होगी तब तक घर वापसी नहीं होगी।

 

राकेश टिकैत ने ये भी बताया कि आने वाले दिनों में ऐसी और महापंचायतें यूपी में की जाएंगी। राकेश टिकैत ने इस बीच मंच से बीजेपी को कड़ी चुनौती देते हुए लोगों से ‘हर हर महादेव’ और ‘अल्लाह हू अकबर’ के नारे भी लगवाए। सोशल मीडिया पर राकेश टिकैत का ये वीडियो काफी वायरल हो रहा है।

वीडियो में राकेश टिकैत द्वारा कहा जा रहा है कि, ‘जब टिकैत साहब थे तो यह नारा लगता था… अल्लाह हू अकबर… अल्लाह हू अकबर। इसी धरती से हर हर महादेव के नारे भी लगते थे। ये नारे हमेशा लगते रहेंगें। ये तोड़ने का काम करेंगे, हम जोड़ने का काम करेंगे। किसी गलतफहमी में मत रहना।’ इसके बाद राकेश टिकैत ने भीड़ से भी नारे लगवाए।

बताते चलें, मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत हुई। जीआईसी ग्राउंड पर हुई इस महापंचायत को लेकर दावा किया गया कि यहां 300 से ज्यादा किसान संगठन शामिल हुए।
संयुक्त किसान मोर्चा ने दावा किया है कि ये किसानों की अब तक की सबसे बड़ी महपंचायत है। गौरतलब है कि तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के विरोध प्रदर्शन को नौ महीने से अधिक समय हो गया है। किसान उन कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer