भारत

कृष्णा नागर ने रचा इतिहास : टोक्यो पैरालिंपिक में जयपुर के बैडमिंटन खिलाड़ी ने गोल्ड मैडल जीत भारत का नाम किया रोशन, SH-6 कैटेगरी बैडमिंटन फाइनल में हांगकांग के चु मान केइ को हराया

जयपुर के बैडमिंटन खिलाड़ी कृष्णा नागर ने दुनियाभर में भारत का नाम रोशन कर दिया है। एक्स SH-6 कैटेगरी में हुए रोमांचक मुकाबले में कृष्णा ने हांगकांग के चू मान केई को करारी शिकस्त देकर गोल्ड मेड

कृष्णा नागर ने रचा इतिहास : टोक्यो पैरालिंपिक में जयपुर के बैडमिंटन खिलाड़ी ने गोल्ड मैडल जीत भारत का नाम किया रोशन, SH-6 कैटेगरी बैडमिंटन फाइनल में हांगकांग के चु मान केइ को हराया

टोक्यो पैरालिंपिक में जयपुर के बैडमिंटन खिलाड़ी कृष्णा नागर ने दुनियाभर में भारत का नाम रोशन कर दिया है। एक्स SH-6 कैटेगरी में हुए रोमांचक मुकाबले में कृष्णा ने हांगकांग के चू मान केई को करारी शिकस्त देकर गोल्ड मेडल जीत लिया है। कृष्णा राजस्थान के दूसरे खिलाड़ी है, जिन्होंने ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता है। इससे पहले शूटिंग में अवनि लेखरा ने गोल्ड जीता था।
इससे पहले Krishna नागर ने शनिवार को ग्रेट ब्रिटेन के क्रिस्टन कूंब्स को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी। कृष्णा पैरालिंपिक में मेडल लाने वाले राजस्थान से चौथे खिलाड़ी बन गए हैं। कृष्णा ने अपने खेल से ब्रिटेन के खिलाड़ी को काफी परेशान किया। उन्होंने पहला गेम 21-10 और दूसरा गेम 21-11 से जीतकर फाइनल में जगह बनाई। कृष्णा के शॉट्स के वैरिएशन का विरोधी के पास कोई जवाब नहीं था।

यह भी पढ़े : सुहास एलवाई ने कर दिखाया, बैडमिंटन में जीता सिल्वर, भारत की झोली में एक और मेडल

क्या होता है SH-6 कैटेगरी

SH-6 कैटेगरी में वह खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं, जिनकी लंबाई नहीं बढ़ती। Krishna की भी लंबाई नहीं बढ़ रही थी। 2 साल की उम्र कृष्णा की रही होगी, तभी उसकी इस बीमारी के बारे में परिवार को पता चला। धीरे-धीरे कृष्ण बड़ा हुआ। उसने खुद को पूरी तरह खेल को समर्पित कर दिया। वह रोज घर से 13 किमी दूर स्टेडियम जाकर ट्रेनिंग किया करता था।

घर पर खुशी का माहौल

Krishna के फाइनल में पहुंचने पर जयपुर के दुर्गापुरा में उनके परिवार में खुशी का माहौल है। कृष्णा के परिजनों ने बताया कि लंबे वक्त से कृष्णा हर दिन पैरालिंपिक के लिए मेहनत कर रहा था। उसी का नतीजा है कि आज उसने में मैडल जीता है। हमें पूरी उम्मीद है कि कृष्णा भविष्य में भी अच्छा परफॉर्म कर भारत का नाम दुनिया में रोशन करेगा।

Krishna ने फाइनल में हांगकांग के चू मान कई को हराया

Krishna नागर ने फाइनल में हांगकांग के चू मान केई को हराया। पहला गेम कृष्णा ने 21-17 से जीता। दूसरे गेम में केई ने वापसी की और 16-21 से जीते। वहीं तीसरे और निर्णायक गेम को कृष्णा ने 21-17 से जीत कर गोल्ड पर कब्जा जमा लिया। उन्होंने यह मेडल SH-6 कैटेगरी में जीता। SH-6 कैटेगरी में वैसे खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं, जिनकी लंबाई नहीं बढ़ती। बैडमिंटन के मिक्स्ड डबल्स में पलक कोहली और प्रमोद भगत की जोड़ी को फुजिहारा और सुगीनो की जोड़ी से हार का सामना करना पड़ा। इसके अलावा व्हीलचेयर के 50 मीटर मिस्क्ड एयर राइफल में अवनि लेखरा, दीपक और सिद्धार्थ बाबू भी मेडल की दौड़ से बाहर हो गए।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer