भारत

New Rule: हेलमेट ना पहनने वाले हो जाएं सतर्क 5 लाख का जुर्माना व 1 साल की जेल

New Rule: देशभर में बिना ISI मानक वाले हेलमेट पर 1 जून से प्रतिबन्ध लग रहा है। बताया जा रहा है कि अगर कोई व्यक्ति बिना ISI वाला हेलमेट पहनता है तो उस पर कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

New Rule

भारत. दुपहिया वाहन चालकों के लिए हेलमेट पहनना बहुत जरूरी है।

आये दिन कितनी ही सड़क दुर्घटनाएं होती रहती है, और लोग अपनी जान गवां बैठते है। ऐसे में हर एक को चाहिए कि वह अपनी सुरक्षा करे।

हेलमेट पहनने से आपको फायदा होगा किसी और को नही।

इसलिए अपनी और आने परिवार वालो के बारे में सोचे और सुरक्षा का पूरा ख्याल रखे।

सरकार कितने ही सड़क नियम बनाती रहती है जिसका मकसद आपकी सुरक्षा है। इसी बीच यह खबर आई है कि देशभर में बिना ISI मानक वाले हेलमेट (New Rule) पर 1 जून से प्रतिबन्ध लग रहा है।

बताया जा रहा है कि अगर कोई व्यक्ति बिना ISI वाला हेलमेट पहनता है तो उस पर कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

यह भी पढ़ें, कोरोना पढ़ा धीमा, जाने क्या है आंकड़े

इसलिए अपने हेलमेट को खरीदने से पहले एक बार यह जांच जरूर कर के की क्या वह हेलमेट ISI सर्टिफिकेशन है या नहीं।

यह हेलमेट BIS (ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टेंडर्ड) सर्टिफाइड होना चाहिए। (New rule)

जानें क्या है नए नियम:-

राजमार्ग मंत्रालय व सड़क परिवहन द्वारा 26 नवम्बर 2020 को एक अधिसूचना में यह बताया गया कि ” दोपहिया वाहन सवारों के लिए उपयोग में किया जाने वाला हेलमेट BSI प्रमाणित होना चाहिए और 1 जून से उन पर ISI का चिन्ह कगे होना चाहिए।”

जुर्माना:-

यदि कोई दुकानदार बिना ISI प्रमाणित हेलमेट बेचता है, भंडारण करता है, या आयात करता है

तो ऐसे व्यक्ति 1 साल की कैद तथा न्यूनतम 1 लाख का जुर्माना हो सकता है। यह जुर्माना 5 लाख तक भी बढ़ाया जा सकता है।

वही यदि ऐसा कोई व्यक्ति बिना ISI का हेलमेट खरीदता है तो उस ओर भी सख्त कार्यवाही की जाएगी।

इन नए कानून का पालन ना करने पर या इनका उल्लंघन करने पर सख्त कदम उठाया व दण्डित किया जाएगा।

इनके जरिए भारत सरकार ने दोपहिया सवारों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने की कोशिश की है।

1 जून 2021 से देश मे केवल BSI/ISI सर्टिफिकेट वाले दुपहिया हेलमेट बनाने आयात कर के व बेचने की ही अनुमति होगी।

तथा बिना ISI वाले व BSI सर्टिफिकेशन वाले हेलमेट बनाने व बेचने पर 1 साल जेल व 5 लाख तक का जुर्माना भरना पड़ा सकता है।

क्या है सरकार को फायदा:-
यह नियम आम लोगो की केवल सुरक्षा के लिए बनाया गया है ताकि अनचाही मौतों का आंकड़ा कम हो सके।

ISI प्रमाणित हेलमेट नकली हेलमेटों को तुलना में ज्यादा सुरक्षित है। इसलिए इनका उपयोग हर एक चालक को करना चाहिए।

ताकि सड़क पर होने वाली दुर्घटना के आंकड़ों को कम किया जा पाए।

WHO के अनुसार देश मे हर साल 3 लाख से ज्यादा लोग मरते है।

यह आंकड़ा केवल उस पर आधारित किया गया है जिसकी रिपोर्ट भारत सरकार के पास शामिल है।

इसके बाहर यह आंकड़ा 10 लाख से ज्यादा दर्ज हो सकता है। (New Rule)

भारत सरकार द्वारा यह सारे उपाय केवल इसलिए किये जा रहे है ताकि सड़क दुर्घटनाएं कम हो सके।

तथा मानव जीवन सुधर पाए।

इसलिए इस नियम पर हर एक व्यक्ति को सख्ती से अमल किया जाना अति आवश्यक है।

वरना उन्हें कड़ी कानूनी कार्यवाही का सामना करना पड़ेगा।

नकली हेलमेट का उपयोग केवल लोग इसलिए करते है ताकि पुलिस के द्वारा चालान काटने से बच सके।

लेकिन इसके विपरीत लोगो को इसकी कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ती है।

इसलिए यदि आप अपने आपको सुरक्षित रखना चाहते है या किसी भी तरह के जुर्माने से बचना चाहते है

तो हेलमेट खरीदने से पहले यह सुनिश्चित करे कि हेलमेट ISI व BSI प्रमाणित हो।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker