भारत

भोपाल में 2023 तक शुरू होगी मेट्रो रेल की परिवहन सेवा

भोपाल 19 नवंबर ()। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में सितंबर 2023 तक मेट्रो रेल परिवहन सेवा शुरू हो जाएगी। इसके लिए शुक्रवार को आठ रेल्वे स्टेशनों का मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भूमि पूजन किया।

मुख्यमंत्री चौहान ने मेट्रो रेल्वे स्टेशनों का भूमि पूजन करते हुए कहा है कि भोपाल अद्भुत शहर है। अब हम भोपाल शहर को हरित भोपाल, स्वच्छ भोपाल, हाईटेक भोपाल के साथ मेट्रो सिटी भोपाल भी कह सकते हैं। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां वल्र्ड क्लास रानी कमलापति रेलवे स्टेशन का शुभारंभ किया है। इस क्रम में अब सितंबर 2023 तक भोपाल में मेट्रो रेल का परिवहन शुरू होगा, जिसका लाखों नागरिकों को लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने एम्स के पास भोपाल मेट्रो रेलवे परियोजना में 426 करोड़ 67 लाख रूपए की लागत से बनने वाले आठ रेलवे स्टेशनों का भूमि-पूजन कार्यक्रम में कहा कि मैं आज इस कार्यक्रम में उपस्थित आमजन से और प्रदेश के नागरिकों से तीन तरह की अपील कर रहा हूं। पहली अपील यह है कि- प्रत्येक व्यक्ति जिम्मेदार नागरिक की भूमिका निभाते हुए पर्यावरण की रक्षा में भागीदारी करें। हर व्यक्ति वर्ष में कम से कम एक पेड़ जरूर लगाए। साथ ही स्वच्छता और सौंदर्यीकरण में भी सहयोग दें। अपने शहर की सार्वजनिक सम्पत्ति को नष्ट करने का कार्य कोई नहीं करें।

मुख्यमंत्री चौहान ने दूसरी अपील में नागरिकों से स्वयं की सेहत की रक्षा करने की बात कही। कोरोना के संदर्भ में हर व्यक्ति को वैक्सीन के दोनों डोज लगवाने के साथ ही मास्क के उपयोग और परस्पर दूरी को बनाए रखना है।

मुख्यमंत्री चौहान ने तीसरी अपील के रूप में विद्युत की बचत में भी सहयोग देने की बात कही। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार 21 हजार करोड़ रूपए की सब्सिडी प्रदान कर रही है। इस कारण घरेलू और कृषि उपभोक्ताओं को आसानी से सही कीमत पर बिजली मिल रही है। बिजली को बचाना बिजली को बनाने के बराबर है।

इस मौके पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, विधायक कृष्णा गौर, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में विधायक रामेश्वर शर्मा के अलावा सुरजीत सिंह चौहान, सुमित पचौरी और अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।

प्रारंभ में नगरीय विकास एवं आवास विभाग के प्रमुख मनीष सिंह ने कहा कि आज आठ मेट्रो स्टेशन निर्माण की शुरूआत हो रही है। मेट्रो का यह खण्ड एम्स से सुभाष नगर तक नए और पुराने शहर को जोड़ने का कार्य करेगा। नागरिक सुविधा को बढ़ाने के लिए और पर्यावरण की रक्षा के लिए इस कार्य का विशेष महत्व होगा।

एसएनपी/एएनएम