कर्नाटक हाईकोर्ट ने पाकिस्तानी पिता से पैदा हुए दो नाबालिगों के लिए भारतीय नागरिकता की मांग वाली याचिका खारिज की

Sabal SIngh Bhati
3 Min Read

बेंगलुरु, 7 अप्रैल ()। बेंगलुरु में रहने वाले पाकिस्तानी पिता और भारतीय मां से पैदा हुए दो नाबालिगों को कानूनी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि न्यायमूर्ति एम नागप्रसन्ना की अध्यक्षता वाली कर्नाटक उच्च न्यायालय की पीठ ने बच्चों के लिए भारतीय नागरिकता की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया है।

पाकिस्तान की नागरिकता को छोड़ने के लिए 21 वर्ष की आयु प्राप्त करने का कानून दो नाबालिगों के लिए भारतीय नागरिकता प्राप्त करने में बाधा बन गया है, जो वर्तमान में बेंगलुरु में अपनी अलग हुई मां के साथ रह रहे हैं। बुधवार को कोर्ट का फैसला आया।

2002 में, बेंगलुरु की अमीना रहील ने पाकिस्तानी नागरिक असद मलिक से दुबई में शादी की थी, जहां वह बस गए थे। हालांकि, 2014 में दुबई की अदालत में दोनों का तलाक हो गया, जिसने दोनों बच्चों की कस्टडी अमीना को दे दी। 2021 में, अमीना ने 17 और 14 साल की उम्र के अपने दो बच्चों के साथ बेंगलुरु में अपनी मां के घर लौटने का फैसला किया। हालांकि अमीना भारतीय नागरिक हैं, लेकिन उनके बच्चे पाकिस्तानी नागरिक हैं क्योंकि उनके पिता उसी देश से हैं।

अपने बच्चों को भारत लाने के लिए कानूनी बाधाओं का सामना करने के बाद अमीना ने दुबई में भारतीय दूतावास से संपर्क किया था। मानवीय आधार पर, भारतीय दूतावास ने पाकिस्तानी दूतावास को पहले के पासपोर्ट जमा करने के बाद बच्चों को अस्थायी पासपोर्ट दिए थे। अब बच्चों को भारतीय पासपोर्ट और नागरिकता प्राप्त करनी है, क्योंकि अस्थायी पासपोर्ट की अवधि समाप्त हो चुकी है।

अमीना और उनके परिवार ने अस्थायी पासपोर्ट के विस्तार की मांग करते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय को आवेदन दिया था। लेकिन अब उच्च न्यायालय द्वारा उनकी याचिका खारिज करने के बाद, अमीना और उनके बच्चे चिंतित हैं। पारिवारिक सूत्रों ने कहा कि उन्हें गृह मंत्रालय से अस्थायी अवधि का विस्तार मिलने की उम्मीद है।

केसी/

देश विदेश की तमाम बड़ी खबरों के लिए निहारिका टाइम्स को फॉलो करें। हमें फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। ताजा खबरों के लिए हमेशा निहारिका टाइम्स पर जाएं।

Share This Article