मध्य प्रदेश

पानीपुरी बेचने वाले ने बेटी होने की खुशी में मुफ्त में खिलाएं 50,000 गोलगप्पे

पानीपूरी बेचने वाले युवक के घर में जब बेटी का जन्म हुआ, तो उसने अपनी इस खुशी को शहर के लोगों के साथ बांटते हुए एक दिन के लिये अपना पानीपूरी स्टॉल फ्री कर दिया और कोलार इलाके में हजारों लोगों को 50

पानीपुरी बेचने वाले के घर हुई बेटी, नाम रखा ‘अनोखी’, लोगों को फ्री में खिलाए 50 हजार गोलगप्पे

भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक पिता ने अपने घर में बेटी का जन्म होने पर खुशी में ऐसा जश्न मनाया कि, देखने वाले हैरान रह गए। पेशे से पानीपूरी बेचने वाले युवक के घर में जब बेटी का जन्म हुआ, तो उसने अपनी इस खुशी को शहर के लोगों के साथ बांटते हुए एक दिन के लिये अपना पानीपूरी स्टॉल फ्री कर दिया और कोलार इलाके में हजारों लोगों को 50 हजार से अधिक पानीपूरी फ्री में खिलाई।

शहर के लोगों ने भी पानी पूरी वाले युवक को जमकर बाधाई दी और मजों से पानी पूरी का लुत्फ भी उठाया। एक पिता के इस अनूठे जश्न में लोग भी पानीपुरी खाने के लिए कतार में खड़े हुए और अंचल की तारीफ करते नहीं थके।

यह भी पढ़े, पुलिस उपनिरीक्षक भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह का पुलिस ने किया भंडाफोड़ा, प्रधानाचार्य समेत 10 जनों को पकड़ा

अंचल गुप्ता ने बताया कि उन्होंने भगवान से प्रार्थना की थी कि उसके घर लड़की का जन्म हो और भगवान ने उसकी ये मनोकामना पूरी भी की। घर में 17 अगस्त को बेटी ने जन्म लिया। उन्होंने उसका नाम ‘अनोखी’ रखा है। अंचल का एक बेटा पहले भी है।

ऐसे में उसने पहले ही मन बना लिया था कि, अगर उसके घर बेटी हुई, तो उसकी खुशी वो कम से कम अपने इलाके के लोगों के साथ तो बांटेगा ही और जब उसके घर बेटी ने जन्म लिया, तो उसने इस खुशी के जश्न को अनोखे तरीके से मनाने का फैसला लिया। अपने इस अनोखे जश्न के साथ अंचल ने लोगों को ये संदेश भी दिया कि, बेटी से बड़ी खुशी जीवन में और कोई नहीं।

बेटी का जन्म होने के बाद उसने अपनी ख्वाहिश परिवार के सामने रखी, तो परिवार ने भी इसपर खुशी जाहिर करते हुए लोगों को मुफ्त में पानीपूरी खिलाने के फैसले का स्वागत किया। इसके अंचल गुप्ता ने रविवार 12 सितंबर को अपनी दुकान पर आने वाले सभी ग्राहकों को मुफ्त में पानीपुरी खिलाई। ज्यादा से ज्यादा लोग फ्री में पानीपुरी खा सकें, इसके लिए उसने दुकान पर 10 स्टॉल लगा दिये।

इस आयोजन को सफल बनाने में अंचल के घर वाले और दोस्तों ने उनका सहयोग किया। और पांच से छह घंटों के भीतर उन्होंने लोगों को 50 हजार पानीपुरी खिला दी।
इसी खुशी में उसने ये फैसला लिया और रविवार को जो भी उसकी दुकान पर आएया उसे मुफ्त गोलगप्पे खिलाए।अंचल गुप्ता का कहना है कि लड़कियों से ही परिवार है। लड़कियां हैं तो देश है

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer