मध्य प्रदेश

मप्र में रामधुन बनती सियासी हथियार

भोपाल, 24 नवंबर ()। मध्य प्रदेश में एक विवादित बयान पर छिड़े सियासी संग्राम में रामधुन ं हथियार बनाने की कोशिशें होने लगी हैं। यह बात बुधवार को राज्य की राजधानी भोपाल की सड़कों पर नजर आई। भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा के कथित बयान को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह जहां रामधुन गाते हुए सड़क पर उतरे तो विधायक ने अपने आवास पर पूर्व मुख्यमंत्री सिंह के स्वागत में रामधुन गान किया। यह बात अलग है कि पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेड्स के चलते पूर्व मुख्यमंत्री सिंह विधायक के घर तक नहीं पहुंच पाए।

पिछले दिनों भोपाल के हुजूर विधानसभा क्षेत्र से विधायक रामेश्वर शर्मा का सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें कथित तौर पर शर्मा कांग्रेसियों के घुटने तोड़ने की बात कह रहे थे। इसको लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने अहिंसक तौर पर आंदोलन करने का ऐलान किया था। साथ ही कहा था कि विधायक के घर जाकर एक घंटे रामधुन करुंगा ताकि प्रभु उन्हें सद्बुद्धि दे।

पूर्व मुख्यमंत्री सिंह अपनी पूर्व में की गई घोषणा के मुताबिक राजभवन के पास स्थित महात्मा गांधी के प्रतिभा क्षेत्र से रामधुन करते हुए भाजपा विधायक शर्मा के आवास की तरफ बढ़े। सिंह के साथ कांग्रेसजनों को राजभवन के तिराहे पर रोक दिया गया। सिंह अपने साथियों के साथ उसी स्थान पर बैठ गए और लगभग एक घंटे तक रामधुन की।

दिग्विजय सिंह ने अपने आंदोलन को लेकर ट्वीट कर कहा, हिंसा पर अहिंसा की जीत। कांग्रेस कार्यकर्ताओं के घुटने तोड़ने वाले भाजपा विधायक ने कॉंग्रेसियों के सामने घुटने टेके। कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए हलुआ पूड़ी का निमंत्रण। धन्यवाद।

एक तरफ जहां कांग्रेस कार्यकर्ता रामधुन गाते हुए सड़क पर थे तो दूसरी ओर भाजपा विधायक अपने घर पर रामभजन में लीन थे। वे यही कह रहे थे जो भी राम का नाम ले उसका स्वागत है। विधायक के आवास की विशेष तौर पर साजसज्जा की गई थी और राम नाम गूंज रहा था। इतना ही नहीं वहां आने वालों के लिए हलुआ पूड़ी का भी इंतजाम था।

एसएनपी/एएनएम