महाराष्ट्र

गुलशन कुमार हत्याकांड: अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का भाई अब्दुल रऊफ की उम्र कैद बरकरार

गुलशन कुमार हत्याकांड: अब्दुल रऊफ को गुलशन कुमार हत्या के केस में दोषी ठहराया था. अप्रैल 2002 में उसे उम्रकैद की सजा मिली थी. फिर 2009 में वह पैरोल लेकर बाहर आया और बांग्लादेश भाग गया।

गुलशन कुमार हत्याकांड: अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का भाई अब्दुल रऊफ की उम्र कैद बरकरार

गुलशन कुमार हत्याकांड: 12 अगस्त 1997 वो समय जब टी-सीरीज कंपनी के मालिक गुलशन कुमार इस दुनिया को अलविदा कह गए थे। मुंबई के जुहू इलाके में जब वो मंदिर से बाहर निकल रहे थे तो बाइक सवार बदमाशों ने उन पर ताबड़तोड़ 16 गोलियां दाग दीं, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। अब उनके मर्डर केस में बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला सुना दिया है।
गुलशन कुमार हत्या मामले से जुड़ी याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने फैसला सुनाते हुए हत्या के एक दोषी अब्दुल रऊफ उर्फ दाऊद मर्चेंट की उम्रकैद की सजा को बरकरार कर दिया है। बता दें कि अब्दुल रऊफ अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का साथी है। उसे सेशन कोर्ट ने उम्र कैद की सजा सुनाई थी, जो कि बरकरार रखी गई है।

यह भी पढ़े, आतंकियों की क्रूरता का शिकार हुआ भट परिवार, SPO फैयाज की बहु ने सुनाई आप बीती

पैरोल से भागा था अब्दुल रऊफ:

अब्दुल रऊफ को गुलशन कुमार हत्या के केस में दोषी ठहराया था. अप्रैल 2002 में उसे उम्रकैद की सजा मिली थी. फिर 2009 में वह पैरोल लेकर बाहर आया और बांग्लादेश भाग गया. फिर बाद में उसे बांग्लादेश से भारत लाया गया था.

गुलशन कुमार से जुड़ी कुल चार याचिकाएं बॉम्बे हाई कोर्ट में आई थीं. इसमें तीन अपील अब्दुल रऊफ, राकेश चंचला पिन्नम और राकेश खाओकर को दोषी ठहराए जाने के खिलाफ थीं. वहीं अन्य याचिका महाराष्ट्र सरकार ने दायर की थी. यह बॉलीवुड प्रोड्यूसर रमेश तौरानी को बरी करने के खिलाफ थी. उनपर हत्या के लिए उकसाने का आरोप था, जिससे उनको बरी कर दिया गया था. बॉम्बे हाई कोर्ट ने बाकी दोषियों की अर्जियों को आंशिक रूप से सुनने की बात कही है।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker