महाराष्ट्र

बुजुर्ग महिला की लौट आई आँखों की रोशनी, कोविशिल्ड वैक्सीन ने किया चमत्कार

बुजुर्ग महिला ने अजीब दावा किया है. उनका कहना है कि पिछले 8 साल से आंखों में मोतियाबिंद होने के कारण उन्हें दिखाई देना बंद हो गया था. लेकिन कोरोना की वैक्सीन लगवाने के बाद उनकी आंखों....

बुजुर्ग महिला की लौट आई आँखों की रोशनी, कोविशिल्ड वैक्सीन ने किया चमत्कार

वाशिम: महाराष्ट्र (Maharastra) के वाशिम जिले में रहने वाली 73 वर्षीय एक बुजुर्ग महिला ने अजीब दावा किया है. उनका कहना है कि पिछले 8 साल से आंखों में मोतियाबिंद होने के कारण उन्हें दिखाई देना बंद हो गया था. लेकिन कोरोना की वैक्सीन (Corona Vaccine) लगवाने के बाद उनकी आंखों की रोशनी लौट आई है.

उन्‍होंने बताया कि 9 साल पहले मोतियाबिंद के कारण उनकी आंखों की रोशनी चली गई थी. बीमारी के कारण उनकी पुतली सफेद हो गई थी और इसके बाद उन्‍हें दिखना बंद हो गया था।
मीडिया रिपोर्ट के के अनुसार मथुराबाई को 26 जून को कोविशील्‍ड वैक्‍सीन की पहली डोज लगी थी. उनका दावा है कि इसके अगले दिन ही उनकी आंखों की रोशनी लौट आई. उन्‍हें 30 से 40 फीसदी तक दिखने लगा।

यह भी पढ़े, कोरोना से ठीक हुए मरीज़ों में अब गॉलब्लैडर की समस्या, ब्लड शुगर भी तेजी से बढ़ने की शिकायत- रिपोर्ट

डॉक्टर्स ने ये कहा:

मथुरा बिडवे नाम की इस महिला ने बताया कि, ‘पहले मुझे अपने छोटे-मोटे कामों के लिए भी दूसरों की जरूरत होती थी. लेकिन अब मैंने अपने सारे काम खुद करने शुरू कर दिए हैं. इस बात की पुष्टि मथुरा के घरवालों और पड़ोसियों ने भी की है. वहीं इमरजेंसी टास्क फोर्स के मेंबर और सीनियर डॉक्टर डॉ. तात्या लहाने से जब इस संबंध में बात की गई तो उन्होंने बताया कि ये महज एक इत्तेफाक है, और इसका कोरोना वैक्सीनेशन से कोई संबंध नहीं है।

परिवार वालो की खुशी भी लौट आयी:

बुजुर्ग महिला के भांजे ने बताया कि, ‘कुछ सालों पहले हमने मथुरा की एक आंख का ऑपरेशन कराया था. लेकिन वह नाकाम रहा. इसी वजह से दूसरी आंख में मोतियाबिंद का दायरा बढ़ने लगा और पुतली का बड़ा सफेद घेरा हो गया. लेकिन वैक्सीन लगने के बाद उनकी आंखों की रोशनी लौटने लगी. जब हमने चेकअप कराया तो पता चला कि उनकी 30-40 प्रतिशत आंखों की रोशनी लौट आई है. चाहे ये जिस भी कारण से हुआ हो. हमारे लिए ये खुशी की बात है।’

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker