महाराष्ट्र

मुंबई को राहत: शुरू होगी बस सेवा, मास्क लगाने पर पाबंदी

मुंबई: महाराष्ट्र सरकार ने आम जनता के लिए बस सेवा शुरू करने का फैसला लिया। ब्रह्ममुम्बई इलेक्ट्रिक सप्लाई एन्ड ट्रांसपोर्ट में इसकी जानकारी देते हुए कहा बसों में जितनी सीटें होंगी यात्रियों की संख्या भी उतनी ही होगी , उससे अधिक नही।

मुम्बई. मुम्बईकर को मिली राहत , महाराष्ट्र सरकार ने आम जनता के लिए बस सेवा शुरू करने का फैसला लिया।

ब्रह्ममुम्बई इलेक्ट्रिक सप्लाई एन्ड ट्रांसपोर्ट में इसकी जानकारी देते हुए कहा बसों में जितनी सीटें होंगी यात्रियों की संख्या भी उतनी ही होगी , उससे अधिक नही।

इसके अलावा यात्रा के दौरान यात्रियों को मास्क पहनना भी अनिवार्य होगा।

महाराष्ट्र में पाबंदियों पर मिली ढील:-

कोरोना वायरस के चलते महाराष्ट्र के ठाणे व नवी मुंबई के निगमीय क्षेत्र में लगी पाबंदियों में ढील

देने के बारे में महाराष्ट्र सरकार की पांच स्तरीय योजना में रखा गया।

साप्ताहिक संक्रमण दर व भरे हुए ऑक्सीजन का बेड इस योजना के आधार का प्रतिशत है।

राजेश नारवेकर जो कि ठाणे के जिलाधिकारी है,

के द्वारा जारी की गई अधिसूचना में कल्याण के डोम्बीवली क्षेत्र को तीसरी श्रेणी में रखा गया है।

यह भी पढ़ें, Mini Unlock In Rajasthan: कल से शुरू होगा राजस्थान में अनलॉक, जानिए कितनी और कहाँ मिलेगी छूट 

मुंबई को मिली राहत 

वहीं उन शहरों व जिलों को दूसरी श्रेणी में रखा गया जहां संक्रमण दर पांच फीसदी है

और जहाँ 25 से 40 फीसदी ऑक्सीजन बेड भरे हुए है।

जहां 40 फीसदी से अधिक बेड भरे हो और जहाँ पांच से दस फीसदी संक्रमण वाले क्षेत्र हो को तीसरी श्रेणी में रखा गया।

महाराष्ट्र सरकार सोच समझकर कदम उठा रही है: उद्धव ठाकरे

रविवार को ठाकरे ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते राज्य में लागू पाबंदियों में ढील देने के बारे सोच समझकर ही कदम उठा रही है।

उन्होंने यह बात अग्रणी उद्योगपतियो के साथ हुई डिजिटल बैठक में कही।

सरकार ने इन पाबंदियों में सोमवार से ढील देने के लिए पाँच स्तरीय योजना की घोषणा की।

मुंबई को राहत

यह बात, साप्ताहिक संक्रमण दर व ऑक्सीजन बिस्तरों पर कितने मरीज है

उसके आधार पर ही कही गयी। इस बारे में शुक्रवार रात एक अधिसूचना भी जारी की जा चुकी है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘राज्य सरकार सोच समझकर कदम उठा रही है।

लोगों को अपना ध्यान रखना चाहिए। तत्काल किसी तरह की छूट नही दी जाएगी।

कुछ मानदंड व स्तर तय किये गए है।
स्थानीय प्रशासन पांबन्दियों में ढील देने या उन्हें और अधिक कड़ा बनाने के बारे में फैसला लेगा।”

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker