महाराष्ट्र

जीका वायरस ने दी केरल के बाद महाराष्ट्र में दस्तक, एक महिला हुई संक्रमित

जीका वायरस के लक्षणों में बुखार, त्वचा पर चकत्ते, नेत्रश्लेष्मलाशोथ, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, अस्वस्थता और सिरदर्द शामिल हैं। यह डेंगू जैसे अन्य अर्बोवायरस संक्रमणों के कारण बहुत समान है,

जीका वायरस ने दी केरल के बाद महाराष्ट्र में दस्तक, एक महिला हुई संक्रमित

मुंबई,केरल. केरल के बाद अब महाराष्ट्र (Maharashtra) में जीका वायरस (Zika Virus) का पहला मामला सामने आया है। महाराष्ट्र में जीका संक्रमण का पहला मामला सामने आया है। पुणे निवासी एक महिला को इस वायरस ने चपेट में लिया है। उधर, केरल में दो नए मामलों के साथ कुल संक्रमितों की संख्या 63 हो चुकी है। इस तरह जीका वायरस के मामला एक राज्य के बाद दूसरे राज्य़ में भी सामने आने लगे हैं।

क्या कोरोना के जैसा ही है यह वायरस भी:

SARS-CoV2 की तरह है. ये वही वायरस है जिससे कोरोना होता है. लिहाजा विशेषज्ञों ने इस साल अप्रैल में जर्नल ऑफ मेडिकल वायरोलॉजी में लिखा है कि इसका इलाज भी किसी चुनौती से कम नहीं है. ज़ीका वायरस और कोरोना वायरस में कुछ समानताएं हैं, लेकिन इसका संक्रमण और संचरण अलग है. जीका वायरस एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से फैलता है जिसे डेंगू और चिकनगुनिया जैसे संक्रमण फैलाने के लिए भी जाना जाता है.

यह भी पढ़े, सड़क हादसा: राजस्थान के टोंक में भीषण सड़क हादसा, कार सवार 4 लोगों की मौत

इसके लक्षण:

रिपोर्ट्स के मुताबिक वायरस से संक्रमित ज्यादातर लोगों में लक्षण विकसित नहीं होते हैं. जीका वायरस के लक्षणों में बुखार, त्वचा पर चकत्ते, नेत्रश्लेष्मलाशोथ, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, अस्वस्थता और सिरदर्द शामिल हैं। यह डेंगू जैसे अन्य अर्बोवायरस संक्रमणों के कारण बहुत समान है, और इसमें बुखार, त्वचा पर चकत्ते, कंजंक्टिवाइटिस, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, अस्वस्थता और सिरदर्द शामिल हैं. लक्षण आमतौर पर हल्के होते हैं और 2-7 दिनों तक रहते हैं. चार संक्रमित लोगों में से केवल एक में ही इस बीमारी के लक्षण दिखते हैं.

बचाव:

जीका वायरस संक्रमण की रोकथाम के दिशा निर्देश डेंगू जैसे अन्य अर्बोवायरस संक्रमणों के समान हैं. एडीज मच्छर और उनके प्रजनन स्थल जीका वायरस के संक्रमण के लिए एक महत्वपूर्ण फैक्टर हो सकता है. ये सलाह दी जाती है कि बाल्टी, फ्लावर पॉट्स या टायर जैसे पानी रखने वाले कंटेनरों को खाली करके, साफ करके या ढककर मच्छरों के प्रजनन को कम किया जाए।

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer