असाड़ी प्रकरण: कोजाराम हत्याकांड को लेकर राजनीतिक षड्यंत्र व द्वेष भावना से थानाधिकारी को निलंबित करने ग्रामीण क्षेत्रों में विरोध प्रदर्शन

Kheem Singh Bhati
4 Min Read

झिनझिनयाली। बाड़मेर के असाडी में 12अप्रैल कोजाराम हत्याकांड को लेकर गिराब थानाधिकारी निम्बसिंह भाटी को निलंबित किया गया है व एससी,एसटी सेल के पुलिस उप अधीक्षक पुष्पेन्द्रसिंह आढा को एपीओ आदेश को लेकर तथा कोजाराम हत्याकांड पुलिस एफआईआर में दर्ज 20 से अधिक निर्दोष लोगों को फंसाने को लेकर बाड़मेर के साथ जैसलमेर जिले में भी भारी जनआक्रोश व्याप्त है।सर्व समाज के आह्वान पर जैसलमेर जिले का फतेहगढ़,देवीकोट,झिनझिनयाली कस्बे पूर्णरूप से बंद रहे।

सर्व समाज के आह्वान पर मार्केट को  व्यापारियों व दुकानदारों ने स्वेच्छा से बंद कर पुलिस थानाधिकारी को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन दिया गया।ज्ञापन में बताया गया कि पुलिस थाना गिराब में दर्ज प्रकरण संख्या 15/2023 में वास्तविक तीन आरोपियों के गिरफ्तारी के बाद किसी भी निर्दोष व्यक्ति को फंसाने का प्रयास नही किया जाए न ही अन्य निर्दोष व्यक्तियों से किसी भी तरह की पूछताछ व उनकी गिरफ्तारी न की जाए।

गिराब थानाधिकारी निम्बसिंह भाटी का निलंबन रद्द करने व पुलिस उप अधीक्षक एससी-एसटी सेल पुष्पेन्द्रसिंह आढा का एपीओ आदेश निरस्त किया जाए।मृतक कोजाराम एवं दलित नेता उदाराम मेघवाल के बीच पिछले एक वर्ष से कितनी बार बात हुई है उसकी एवं कोजाराम के द्वारा  दर्ज करवाए गए झूठे एससी/एसटी एक्ट के मुकदमो में उदाराम की भूमिका की भी जांच की जाए।

असाड़ी प्रकरण: कोजाराम हत्याकांड को लेकर राजनीतिक षड्यंत्र व द्वेष भावना से थानाधिकारी को निलंबित करने ग्रामीण क्षेत्रों में विरोध प्रदर्शन
असाड़ी प्रकरण: कोजाराम हत्याकांड को लेकर राजनीतिक षड्यंत्र व द्वेष भावना से थानाधिकारी को निलंबित करने ग्रामीण क्षेत्रों में विरोध प्रदर्शन

तथाकथित दलित उदाराम मेघवाल के द्वारा तथा उनके द्वारा सहयोग से एससी/एसटी एक्ट के तहत दर्ज करवाए गए मुकदमों की निष्पक्ष जांच की जाए।तथा दलित नेता उदाराम के द्वारा झूठे मुकदमो एवं धरना प्रदर्शन के नाम पर अर्जित की गई संपति की भी जांच की जाए ताकि सबके सामने उसका असली चेहरा सामने आ जाए।एससी/एसटी एक्ट के तहत दर्ज करवाये गए झूठे मुकदमों में परिवादियों के विरुद्ध माननीय न्यायालय में धारा 182 आईपीसी में कार्यवाही की जाए।ज्ञापन में मुख्यमंत्री को यह भी बताया कि उक्त बिंदुओं पर समय रहते कार्यवाही नहीं की जाती है तो सर्व समाज की तरफ से जयपुर में अनिश्चितकालीन महापड़ाव किया जाएगा यदि किसी प्रकार की अव्यवस्था होती है तो सम्पूर्ण जिम्मेदारी राज्य सरकार की रहेगी।

इस दौरान झिनझिनयाली सहित कुंडा,निम्बली,तेजमालता,रणधा,मोढ़ा,बईया,सिहड़ार,गुहड़ा,जोगीदास का गांव,गजेसिंह का गांव,देवड़ा, चेलक के सैकड़ो लोगो ने आक्रोशित होकर नारेबाजी की गई। बाड़मेर जिला प्रशासन द्वारा द्वेष व राजनीतिक दबाव के चलते कोजाराम हत्याकांड के दौरान प्रतिनिधि मंडल द्वारा असवैंधानिक रूप से मांगे मनवाई गई है जो कि गलत है।

झिनझिनयाली के मूलचंद चौराहे पर टायर जलाकर सर्व समाज ने विरोध प्रदर्शन जाहिर कर थानाधिकारी को मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा गया ज्ञापन में सैकड़ों ग्रामीणों के हस्ताक्षर है जिसमे बलवन्तसिंह, पूर्व सरपंच जगमालसिंह, भाजपा उपाध्यक्ष स्वरूपसिंह, प्रहलादसिंह, जितेन्द्रसिंह, तारेंद्रसिंह,छोटूसिंह, निम्बसिंह, हिन्दुसिंह, हठुसिंह,कानसिंह, ईश्वरसिंह, अनोपसिंह, भोमसिंह , रामसिंह,जनकसिंह,हीराराम, गोमाराम झिनझिनयाली, वीरसिंह, निम्बसिंह,  उम्मेदसिंह,सिहड़ार सहित सेकड़ो की संख्या में लोग ज्ञापन देने पहुंचे।।

Share This Article