राजनीति

चम्पावत उपचुनाव में आम आदमी पार्टी प्रत्याशी उतारने पर कर रही विचार

देहरादून, 8 मई () चम्पावत विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए भाजपा के समक्ष अभी तक कांग्रेस की ही चुनौती दिखी थी, लेकिन अब आम आदमी पार्टी (आप) भी प्रत्याशी उतारने पर विचार कर रही है। हालांकि, इस पर अभी तस्वीर साफ नहीं हो पाई है। पत्रकारों से बातचीत में आप के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष दीपक बाली ने कहा कि सभी पदाधिकारियों के साथ विचार-विमर्श कर प्रत्याशी उतारने का निर्णय किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में पार्टी धरातल पर संगठन का दायरा बढ़ाने पर काम कर रही है। इसी क्रम में 13 पदों पर नई जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसमें हाल ही में कांग्रेस से त्यागपत्र देकर आप में शामिल हुए जोत सिंह बिष्ट को प्रदेश संगठन समन्वयक बनाया गया है।

मंडल व जिला स्तर पर भी आप ने संगठन को विस्तार दिया है। बसंत कुमार को वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष (कुमाऊं) बनाया गया है। इसी तरह शिशुपाल रावत को प्रदेश उपाध्यक्ष के साथ नैनीताल, अल्मोड़ा का जिला प्रभारी व प्रदेश महिला मोर्चा प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई है। सुनीता बाजवा टम्टा को प्रदेश उपाध्यक्ष के साथ संगठनात्मक रूप में काशीपुर व खटीमा जिला प्रभारी बनाया गया है। दिग्मोहन नेगी को भी प्रदेश उपाध्यक्ष के साथ चमोली, रुद्रप्रयाग व पौड़ी के जिला प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई। प्रदेश उपाध्यक्ष प्रवीन कुमार बंसल देहरादून (पछवा) के प्रभारी बनाए गए। प्रदेश उपाध्यक्ष डिंपल सिंह को परवादून का प्रभारी नियुक्त किया गया।

प्रदेश उपाध्यक्ष नरेश शर्मा को हरिद्वार, रुड़की की जिम्मेदारी, प्रदेश उपाध्यक्ष आजाद अली को अल्पसंख्यक मोर्चा प्रभारी बनाया गया। वहीं, अजय जायसवाल को प्रदेश महासचिव, धर्मेंद्र कुमार बंसल को प्रदेश कोषाध्यक्ष, अमित जोशी को प्रदेश मीडिया प्रभारी व दीपक प्रकाश पंत को प्रदेश सोशल मीडिया प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई है।

कांग्रेस छोड़कर आप में शामिल हुए जोत सिंह बिष्ट ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस को जीवन के 40 साल दिए, लेकिन वहां सच्चे कार्यक˜ताओं की कद्र नहीं है। अब वह आप की मजबूती के लिए सभी पदाधिकारियों के साथ एकजुट होकर काम करेंगे।

विधानसभा की चम्पावत सीट के उपचुनाव को लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष डा देवेंद्र भसीन ने कहा कि जिस प्रकार कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने उपचुनाव से हाथ खड़े किए, उससे साफ है कि कांग्रेस ने अभी से हार मान ली है। उन्होंने कहा कि उपचुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ऐतिहासिक जीत दर्ज करेंगे।

डा भसीन ने कहा कि उपचुनाव की घोषणा के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बड़े-बड़े दावे कर रहे थे और समितियां भी गठित कर दी गई थीं। अब उसके बड़े नेताओं ने उपचुनाव से कन्नी काट ली। इससे साफ है कि कांग्रेस को अपनी भारी पराजय का आभास अभी से हो गया है। उन्होंने कहा कि चम्पावत उपचुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की विजय प्रारंभ से ही निश्चित है। यह बात कांग्रेस नेताओं को भी समझ में आ गई है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री धामी की विजय कांग्रेस की कमजोरी पर नहीं, बल्कि भाजपा सरकार के कार्यों व संगठन के आधार पर होगी। मुख्यमंत्री धामी ने अपने पहले अल्प कार्यकाल में जिस तरह से कार्य किए, उसकी सर्वत्र प्रशंसा हुई।

उन्होंने कहा कि भाजपा का जनाधार निरंतर बढ़ रहा है। चम्पावत के पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष बहादुर सिंह पाटनी समेत अन्य नेताओं के भाजपा में शामिल होने से वहां पार्टी की ताकत और बढ़ी है। दूसरी तरफ, कांग्रेस अंतरकलह का शिकार है। इसका ताजा उदाहरण कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जोत सिंह बिष्ट का केंद्रीय नेतृत्व पर गंभीर आरोप लगाते हुए कांग्रेस छोड़ देना है। उन्होंने कहा कि स्वार्थपूर्ण राजनीतिक करने वाली कांग्रेस को जनता ने नकारा है और अब चम्पावत की जनता उसे एक बार फिर नकारने जा रही है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि वह चम्पावत को विश्व के मानचित्र में लाने के लिए संकल्पबद्ध हैं। वह नौ मई को चम्पावत जाकर उप चुनाव के लिए नामांकन करेंगे। इस दौरान वह जनता से मुलाकात कर उनसे आशीर्वाद मांगेंगे। शनिवार को मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि चम्पावत क्षेत्र उनके लिए नया नहीं है। उनका बचपन वहीं बीता है। वहीं पढ़े और बड़े हुए हैं।

चम्पावत मां पूर्णागिरी की भूमि है और गोल्ज्यू महाराज, मां गंगा देवी, मां कोसी, मां बाराही व बाबा गोरखनाथ का स्थान है। ऐसे स्थान पर जाना और उसकी सेवा करना वह अपना सौभाग्य समझते हैं। वह चम्पावत की सेवा करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। कांग्रेस द्वारा उनके खिलाफ एक महिला प्रत्याशी को उतारने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस का अंदरुनी मामला है। वह सीधे जनता की अदालत में हैं।

चम्पावत विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वह लगातार चम्पावत जाते रहे हैं वह सभी को जानते हैं और सभी उन्हें भी जानते हैं। वह प्रयास करेंगे की उनका संदेश हर व्यक्ति तक पहुंचे। प्रदेश के कार्यालयों में बायोमीट्रिक हाजिरी के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इसकी लगातार समीक्षा की जाएगी और इसे और व्यवस्थित किया जाएगा।

स्मिता/एसकेपी