राजनीति

देश में 15 से 18 वर्ष तक बच्चों के टीकाकरण मामले में कांग्रेस ने टीकों की उपलब्धता पर सवाल उठाया

नई दिल्ली,26 दिसंबर()। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की 15 वर्ष से अधिक किशोरों के कोरोना टीकाकरण किए जाने की कल की घोषणा के एक दिन बाद रविवार को कांग्रेस ने इनकी उपलब्धता पर सवाल उठाते हुए देश में तीन वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों को भी टीके लगाए जाने की मांग की।

कांग्रेस के महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहाक्या मोदी सरकार का ओमिक्रोन वेरिएंट के प्रति इस तरह का ढीला रवैया देश को असफलता की तरह धकेल रहा है और क्या देश की कोरोना टीकाकरण नीति पर नेतृत्व की असफलता का प्रभाव है। इस नीति में बिना किसी योजना के तैयारी और ठोस प्रतिक्रिया का अभाव है।

उन्होंने कहा कि मात्र बयानबाजी करने या फिर टेलीविजन पर आने से कोराना से बुरी तरह प्रभावित हुए लोगों के दर्द को कम नहीं किया जा सकता है और सरकार प्रत्येक दिन कोराना टीकाकरण में बदलाव कर अपनी जिम्मेदारी से नहीं भाग सकती है।

उन्होंने कहा कि सरकार लोगों के जीवन के साथ खिलवाड़ कर रही है और देश के उन 47.95 करोड़ लोगों का क्या होगा जिनकी कोरोना की दूसरी डोज अभी बाकी है।

श्री सुरजेवाला ने कहा सरकारी आंकड़ों के अनुसार देश में 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों की जनसंख्या 94 करोड़ हैं और सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 25 दिसंबर तक 36.50 करोड़ लोगों को कोरोना की दूसरी डोज नहीं लगी है जबकि 11.45 करोड़ लोगों को एक भी डोज नहीं दी गई है। सरकार कह रही है कि देश में कोराना टीके बनाने की क्षमता 16.80 करोड़ प्रतिमाह है लेकिन आवश्यक रूप जरूरी टीकों की संख्या 95 करोड़ हैं । लोगों को मात्र 149 दिनों में कोरोना टीकाकरण कैसे संभव हो सकेगा।

गौरतलब है कि श्री मोदी ने शनिवार को घोषणा की थी कि देश में 15 ये 18 वर्ष तक की आयु के किशोरों को कोराना वैक्सीन लगाए जाने की प्रकिया तीन जनवरी 2022 से शुरू की जाएगी।

जेके