बाड़मेर

ढाई साल बाद पाकिस्तानी दुल्हन भारत लौटी, दोनों देशों में दरार आने की वजह से नही मिल रहा था वीजा

ढाई साल बाद दुल्हन पाकिस्तान से बाड़मेर आएगी। पाकिस्तान के सिन्ध इलाके में ढाई साल पहले जैसलमेर के बईया गांव के विक्रम सिंह और नेपाल सिंह की शादी हुई थी।

ढाई साल बाद पाकिस्तानी दुल्हन भारत लौटी, दोनों देशों में दरार आने की वजह से नही मिल रहा था वीजा

जैसलमेर. यह अजीबोगरीब घटना राजस्थान की है, जहां शादी के ढाई साल बाद दुल्हन पाकिस्तान से बाड़मेर आएगी। पाकिस्तान के सिन्ध इलाके में ढाई साल पहले जैसलमेर के बईया गांव के विक्रम सिंह और नेपाल सिंह की शादी हुई थी।

ऐसा ही विवाह बाड़मेर के गांव गिराब के महेंद्र सिंह का भी हुआ, लेकिन दोनों देशों के रिश्तों में दरार आने से वीजा नहीं मिला और दुल्हनें भारत नहीं आ सकीं। लेकिन दूल्हे वापस वतन लौट आए। नेपाल सिंह और महेंद्र सिंह की दुल्हन मार्च में भारत आ गई थीं।
इस शुक्रवार को विक्रम सिंह की पत्नी निर्मला कंवर अटारी बॉर्डर से भारत पहुंची। आज वे बाड़मेर पहुंचेंगे।

यह भी पढ़े, प्रदेश के छः जिलों में 2 दिन का ऑरेंज अलर्ट हुआ जारी वहीं इन बांधो के गेट खोले गए

बईया के विक्रम सिंह और नेपाल सिंह की बारात थार एक्सप्रेस से जनवरी 2019 में पाकिस्तान के सिंध गयी थी। शादी होने के ठीक बाद पुलवामा अटैक व बालाकोट एयर स्ट्राइक के चलते दोनों मुल्कों के रिश्ते खराब हो गए। जिसके परिणामस्वरूप थार एक्सप्रेस, बस और हवाई सेवा बंद हो गयी। दोनों दूल्हे अप्रैल तक पाकिस्तान में ही थे और फिर भारत लौट आए। इस दौरान वीजा की दिक्कतों के कारण दोनों दुल्हनें उनके साथ नहीं आ सकी थीं। विक्रम सिंह के भारत आने के बाद उसकी पत्नी ने बेटे राजवीर सिंह को पाकिस्तान में ही जन्म दिया।

9 मार्च को नेपाल सिंह और महेंद्र सिंह केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी की कोशिश के बाद की पत्नी अटारी बॉर्डर से भारत आए थे। उस वक्त निर्मला कंवर के पासपोर्ट में टेक्निकल इश्यू की वजह से भारत आने की परमीशन नहीं मिल पाई। इसके बाद मंत्री ने लगातार अपनी कोशिश जारी रखी और शुक्रवार को निर्मला कंवर भी अटारी बॉर्डर से भारत पहुंच गई।

जनवरी 2019 में तीन बारात गई थी पाकिस्तान

पश्चिमी राजस्थान से पहले भी भारत से पाकिस्तान बारात आती और जाती रही है। जनवरी 2019 में बाड़मेर महेंद्र सिंह, विक्रम सिंह और नेपाल सिंह की बारात थार एक्सप्रेस से पाकिस्तान के सिंध इलाके में गई थी। तीनों की पाकिस्तान में शादी भी हो गई। तीनों दूल्हे करीब 3-4 महीने पाकिस्तान में रुके थे। दुल्हनों को वीजा नहीं मिला और बारात बिना दुल्हन के वापस लौटी आई।

अगस्त 2019 से थार एक्सप्रेस बंद

जोधपुर से बाड़मेर होते हुए पाकिस्तान जाने वाली थार एक्सप्रेस का संचालन बीते दो सालों से बंद है। पश्चिमी राजस्थान के लोगों की पाकिस्तान में रिश्तेदारी है। थार एक्सप्रेस बंद होने से रिश्तेदार एक-दूसरे से मिल नहीं पा रहे हे।
5 महीने बाद मां से मिलेगा बेटा
विक्रम सिंह और निर्मला कंवर का बेटा राजवीर सिंह मार्च में निर्मला कंवर की बहन के साथ भारत आ गया था। करीब पांच महीने बाद मां और बेटा मिलेंगे।

 

Tina Chouhan

Author, Editor, Web content writer, Article writer and Ghost writer